ई दिल्ली (एजेंसियां)। वेस्टइंडीज में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों से दुर्व्यवहार करना भारतीय क्रिकेट टीम के प्रशासनिक मैनेजर सुनील सुब्रहमण्यम को भारी पड़ गया। बीसीसीआई ने सुब्रहमण्यम को पहली फ्लाइट से स्वदेश बुला लिया है।

इसके अलावा सुब्रमण्यम को स्वदेश पहुंचते ही मुंबई में बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी के सामने पेश होने के निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि सुब्रमण्यम ने कथित तौर पर भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) के अधिकारियों से कथित दुर्व्यवहार के मामले पर जवाब देना होगा।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार के अनुरोध के बाद आईएफएस अधिकारियों ने जल सरंक्षण को बढ़ावा देने के लिए खिलाड़ियों के साथ एक वीडियो शूट करने के लिए सुब्रमण्यम से मदद के लिए संपर्क किया था। ये शूटिंग लंबी थी और सुब्रमण्यम को इसकी देखरेख करनी थी। लेकिन इसी दौरान सुब्रमण्यम का भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों से विवाद हो गया था। अधिकारियों ने इसकी शिकायत बोर्ड से की।

इस पर वीडियो की शूटिंग के समाप्त होने पर बोर्ड ने सुब्रमण्यम को एक ईमेल भेजा और उन्हें पहली फ्लाइट लेकर स्वदेश लौटने को कहा गया। इस घटनाक्रम के बाद सुब्रमण्यम को प्रशासनिक मैनेजर के पद के लिए होने वाली नियुक्ति के लिए साक्षात्कार में शामिल होने को लेकर संशय हो गया है। माना जा रहा है कि अब उन्हें मैनेजर नहीं बनाया जाएगा।

बता दें कि तमिलनाडु के पूर्व स्पिनर सुब्रमण्यम ने गयाना और त्रिनिदाद एवं टोबैगो में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों के साथ कथित दुर्व्यवहार के लिए बिना शर्त माफी की पेशकश भी की। बीसीसीआई के अधिकारी ने कहा - अपने माफीनामे में सुब्रमण्यम ने नींद पूरी नहीं होने और तनाव में होने की बात कही और इसी के चलते वे इस तरह का व्यवहार कर बैठे। उन्होंने बिना शर्त माफी मांगी है।

लेकिन बोर्ड उन्हें माफी देने के मूड में नहीं है क्योंकि मामला उच्चायोग को होने के कारण केंद्र सरकार ने इसे लेकर बोर्ड के सामने कड़ी आपत्ति जताई है। सरकार के उच्च स्तर के अधिकारी इसमें शामिल हैं, ऐसे में बीसीसीआई के पास कोई विकल्प नहीं बचे हैं। बताया जा रहा है कि सुब्रमण्यम को 16 अगस्त को मुंबई बुलाया गया है। फिलहाल वे पहले चेन्नई जाएंगे और फिर सीईओ के समक्ष पेश होंगे।

गौरतलब है कि 52 वर्षीय सुब्रमण्यम ने त्रिनिदाद एवं टोबैगो में भारतीय उच्चायोग के वरिष्ठ अधिकारियों से दुर्व्यवहार किया था। ये अधिकारी उनसे एक वीडियो शूट के सिलसिले में बात करना चाह रहे थे और वे ये भारत सरकार के निर्देश पर कर रहे थे। लेकिन सुब्रमण्यम ने इन अधिकारियों के फोन नहीं उठाए और उनसे काफी बदतमीजी की। इतना ही नहीं जब मामला बीसीसीआई तक पहुंचा और बोर्ड के अधिकारियों ने उनसे फोन पर सम्पर्क करना चाहा तो उन्होंने बोर्ड अधिकारियों के फोन भी नहीं उठाए। सुब्रमण्यम भारतीय क्रिकेटर आर अश्विन के कोच रहे हैं और उन्होंने 74 फर्स्ट क्लास मैचों में 285 विकेट लिए हैं।

Posted By: Rahul Vavikar