नई दिल्ली (एजेंसियां)। भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट से भले ही लंबा ब्रेक लिया हो, लेकिन वे लगातार सुर्खियों में रहे हैं। भारतीय सेना के साथ उन्होंने कश्मीर में एक सैन्यकर्मी की तरह समय बिताया और ड्यूटी की। वहीं उनके संन्यास को लेकर भी लगातार अटकलें लगाई जाती रहीं। लेकिन धोनी इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप के बाद पहली बार सार्वजनिक रुप से सामने आए हैं और अपनी बात रखी है।

धोनी ने वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में मिली हार पर निराशा जाहिर की। उन्होंने वे टीम के कप्तान रहे, लेकिन एक खिलाड़ी के तौर पर हमेशा भावनाओं से घिरे रहे हैं। उन्होंने कहा- मैं भी आम इंसान की तरह ही सोचता हूं लेकिन नकारात्मक विचारों पर नियंत्रण रखने के मामले में मैं अन्य की तुलना में बेहतर हूं। इसी का फायदा मुझे अपने करियर और जीवन में मिला है। ऐसे समय में मैं खुद को नियंत्रित रखने में सफल होता हूं। हार-जीत के दौरान अलग-अलग भावनाएं मुझ पर हावी होती हैं।

भारत दो बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान रहे धोनी ने वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार को लेकर कहा- जैसे की सभी को निराशा हुई थी, मुझे भी बहुत निराशा हुई। हर हार के साथ मेरे साथ भी ये होता है। कई बार मुझे भी गुस्सा आता है। लेकिन खास बात ये है कि इस तरह की सभी भावनाएं नकारात्मक होती हैं। ऐसे में उन पर काबू पाना बहुत जरूरी होता है। ये भावनाएं परेशानी बढ़ाती हैं। ऐसे में उनके बारे में सोचने की बजाय उनका समाधान ढूंढना ज्यादा अच्छा होता है। जो हो चुका है उसके बारे में ज्यादा सोचने की बजाए महत्यपूर्ण ये है कि हम आगे क्या कर रहे हैं उसकी योजना बनाई जानी चाहिए।

धोनी ने कहा- क्रिकेट में अलग-अलग फॉर्मेट होते हैं और परिस्थितियां भी अलग-अलग होती है। टेस्ट में दो पारियां होती हैं तो अगली रणनीति तैयार करने के लिए थोड़ा अधिक समय मिलता है। उससे कम समय वनडे क्रिकेट में मिलता है। जबकि टी20 में सब कुछ तुरंत करना होता है। इस फॉर्मेट में अलग ही एप्रोच और सोच की जरूरत होती है। मैच में एक खिलाड़ी की गलती भी हो सकती है या पूरी टीम की भी, जिसके चलते हार मिली हो। ऐसे में संयम और रणनीति बहुत अहम होती है।

बहरहाल यहां बातचीत के दौरान भी धोनी ने अपने भविष्य को लेकर कोई खुलासा नहीं किया। जबकि उम्मीद थी कि वे मैदान में अपनी वापसी को लेकर या संन्यास की अटकलों को लेकर कोई बात करेंगे, लेकिन धोनी ने इसे लेकर कोई टिप्पणी नहीं की।

Posted By: Rahul Vavikar