नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के नए बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर ने शुक्रवार को कहा कि टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग और वनडे में मध्यक्रम का प्रदर्शन उनके लिए प्रमुख चिंता का विषय रहेगा। राठौर ने कार्यभार संभाला और उनके मार्गदर्शन में टीम इंडिया की पहली सीरीज दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 15 सितंबर से होगी।

राठौर को पिछले दिनों संजय बांगर की जगह टीम इंडिया का बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया गया था। टीम इंडिया को अब दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन टी20 मैच और तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है। राठौर ने बीसीसीआई की आधिकारिक वेबसाइट पर दिए बयान में कहा, वनडे में हमारा मध्यक्रम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा है और हमें इसका समाधान खोजना होगा। इसके अलावा टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग भी चिंता का विषय है। हमारे पास विकल्प है और उनके बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है। हमें उनके प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखने के लिए काम करना होगा।

राठौर ने कहा, वनडे फॉर्मेट के लिए हमारे पास श्रेयस अय्यर और मनीष पांडे के रूप में अच्छे विकल्प है। श्रेयस ने पिछले मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया है और मनीष पांडे भी मौजूद है। इन दोनों खिलाड़ियों ने घरेलू क्रिकेट और भारत ए की तरफ से शानदार प्रदर्शन किया है। ये दोनों खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करने के काबिल है और मुझे उनकी काबिलियत पर कोई शंका नहीं है। हमें उनको सपोर्ट करना होगा। टीम में प्रतिभा की कमी नहीं है।

राठौर की नियुक्ति पर शुरू में हितों के टकराव का लेकर बवाल मचा था लेकिन बाद में इसके संबंध में आरोप वापस ले लिए गए। राठौर ने छह टेस्ट और 7 वनडे में भारत का प्रतिनिधित्व किया था और वर्तमान टीम के खिलाड़ियों के साथ उनके अच्छे संबंध है।

राठौर ने कहा, हमारे पास अच्छा कोचिंग स्टाफ है और मैं उन सबको जानता हूं क्योंकि मैं सिलेक्टर रह चुका हूं। मैं अधिकांश खिलाड़ियों के साथ किसी न किसी हैसियत में काम कर चुका हूं। मैं रवि शास्त्री, भरत अरुण और आर श्रीधर तथा विराट कोहली के साथ भी काम कर चुका हूं। अब टीम को अगले स्तर पर ले जाने की बात है।