कराची। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान Rashid Latif ने गुरुवार को बड़ा दावा करते हुए कहा कि मैच फिक्सिंग में क्रिकेटरों के समान ही बोर्ड के अधिकारी भी जिम्मेदार हैं। यूट्यूब वीडियो में Rashid Latif ने कहा कि बोर्ड ने फिक्सिंग के आरोपी खिलाड़ियों का बचाव किया हैं। हम खिलाड़ियों को दोष देते हैं लेकिन क्या उन्हें बचाने वाले बोर्ड अधिकारी भी समान रूप से दोषी नहीं हैं।

Rashid Latif ने कहा, आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट खिलाड़ियों को कुछ लोगों से दूर रहने को कहती हैं लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठाती हैं। आईसीसी क्रिकेटरों को जिन लोगों से दूर रहने को कहती हैं, वे फ्रेंचाइजी आधारित लीग में उन्हीं लोगों की टीम की तरफ से खेलते हैं। यह एक बड़ी समस्या है, अब क्रिकेटर्स उन लोगों से दूर कैसे रह सकते हैं।

राशिद लतीफ ने कहा, 'मैं मैच फिक्सिंग में शामिल होने के लिए पूरी तरह से सिर्फ क्रिकेटर को ही दोषी नहीं मानूंगा। क्रिकेटर तो महज प्यादे होते हैं, बोर्ड के सदस्य उनका उपयोग करते हैं। फिक्सिंग में बोर्ड की बड़ी भूमिका होती है। यदि कोई बोर्ड मेंबर शामिल नहीं हैं तो खिलाड़ी को सजा दी जाती है। यदि बोर्ड का कोई बड़ा अधिकारी राजनीतिक संबंधों की वजह से शामिल हो तो ऐसे में खिलाड़ी को बचा लिया जाता हैं।'

राशिद लतीफ ने कहा, 'दुनियाभर में हर क्रिकेट बोर्ड ने अपने क्रिकेटरों का बचाव किया हैं। हर देश ने फिक्सिंग करने वाले क्रिकेटरों को बचाया है। टी20 क्रिकेट और फ्रेंचाइजी आधारित क्रिकेट के लिए विंडो इसलिए तैयार की गई और क्रिकेटरों से कहा जाता है कि जो कुछ भी करना है इन लीग में करो लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट में फिक्सिंग मत करो।'

Posted By: Kiran K Waikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना