मुंबई। बीसीसीआई का अध्यक्ष पद संभालने जा रहे पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि वे बोर्ड प्रशासन में क्रिकेटर की सोच के साथ काम करेंगे। उन्होंने साफ किया कि उन पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है।

बीसीसीआई अध्यक्ष पद के लिए एकमात्र नामांकन सौरव गांगुली ने दाखिल किया है और उनका अध्यक्ष चुना जाना तय है। गांगुली ने इसके बाद उन सभी का शुक्रिया अदा किया जिन्होंने इस पद के लिए उनका सपोर्ट किया है। उन्होंने कहा कि वे सभी को साथ लेकर चलेंगे और सबके लिए काम करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि वे अपनी काबिलियत से इस पद पर पहुंचे हैं।

गांगुली ने कहा कि विराट कोहली भारत की शान है और उनका रिकॉर्ड इस बात की गवाही देता है। वे बड़े खिलाड़ी हैं और हम उनके साथ हैं। अगले साल टी20 वर्ल्ड कप होना है और हम इस बारे में विराट और चीफ कोच रवि शास्त्री से बात करेंगे। कोई भी मैच बोर्ड रूम में बैठकर नहीं जीता है और हम उन्हें खुलकर खेलने को कहेंगे।

गांगुली ने कहा कि यह पद संभालना उनके लिए गौरव की बात होगी और इस 10 महीने के समय का उपयोग भारतीय क्रिकेट के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए करेंगे।

इससे पहले गांगुली ने अपनी प्राथमिकताओं का खुलासा करते हुए कहा था कि देश के प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों की स्थिति सुधारना और इसके स्तर को बेहतर करना उनकी प्राथमिकता रहेगी। फर्स्ट क्लास क्रिकेटरों को महत्व दिया जाएगा और वे इस बारे में सबके साथ मिलकर प्लान तैयार करेंगे। पिछले करीब तीन साल में इन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा था और वे सबसे पहले इस मुद्दे पर काम करेंगे।

गांगुली ने कहा था कि वे हितों के टकराव मामले पर भी गौर करेंगे। उन्होंने कहा, क्रिकेटर इस सिस्टम का हिस्सा है लेकिन पहले उनकी संख्या कम होती थी। हितों का टकराव एक मुद्दा है और इस पर गंभीरता से विचार करने की दरकार है।

Posted By: Kiran Waikar