कोलकाता (एजेंसियां)। भारत के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य सौरव गांगुली ने टीम इंंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री को लेकर बड़ा बयान दिया है। गांगुली ने शास्त्री को लेकर कहा कि बेशक शास्त्री अच्छे कोच हैं, लेकिन उनके चयन के समय सलाहकार समिति के सामने ज्यादा विकल्प नहीं थे। उस समय टीम के हेड कोच के लिए ज्यादा लोगों ने आवेदन नहीं किए थे।

बता दें कि सौरव और सचिन तेंडुलकर व वीवीएस लक्ष्मण की मौजूदगी वाली क्रिकेट सलाहकार समिति ने ही 2017 में रवि शास्त्री को टीम का हेड कोच नियुक्त किया था। इससे ठीक एक साल पहले जब इस समिति ने शास्त्री के स्थान पर अनिल कुंबले कोच नियुक्त किया था तब शास्त्री ने गांगुली पर गंभीर आरोप लगाए थे। फिलहाल एक एक्सटेंशन के बाद शास्त्री को फिर टीम इंडिया का कोच बनाया गया है। शास्त्री 2021 में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप तक टीम के कोच बने रहेंगे।

गांगुली ने अब जाकर शास्त्री को लेकर बयान दिया है। गांगुली ने कहा शास्‍त्री भले ही हेड कोच के लिए सही पसंद हों, लेकिन इससे पहले जब उनकी नियुक्ति की गई थी तब ज्यादा आवेदन नहीं होने के कारण बीसीसीआई के पास अधिक विकल्प नहीं थे। गांगुली ने कहा कि शास्त्री टीम के साथ लंबे अरसे से जुड़े हैं, ऐसे में उनसे 2020 और 20121 में होने वाले वर्ल्ड और अन्य बड़े टूर्नामेंट में खिताब की उम्मीद की जा रही है।

गांगुली ने कहा - शास्‍त्री जितने लंबे अरसे से टीम से जुड़े हैं, उतना मौका शायद ही किसी और को मिला है। इतने लंबे समय में टीम के साथ उनकी बांडिंग काफी अच्छी है। वे इस काम के लिए सही विकल्प हैं लेकिन अब उन्हें उम्मीदों पर खरा उतरना होगा। 2020 और 2021 के वर्ल्ड कप में हम खिताब की उम्मीद कर रहे हैं।

दरअसल शास्‍त्री को सबसे पहले साल 2007 में बांग्लादेश दौरे पर टीम का मैनेजर बनाया गया था। इसके बाद 2014 में वे टीम के डायरेक्टर बने। 2015 वर्ल्ड कप के बाद कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल पूरा हुआ और शास्‍त्री को 2016 टी20 वर्ल्ड कप तक टीम का कोच बनाया गया। लेकिन 2016 में क्रिकेट सलाहकार समिति ने शास्त्री को हटाकर अनिल कुंबले को टीम इंडिया का हेड कोच बनाया। हालांकि 2017 में कुंबले के इस्तीफे के बाद शास्‍त्री को फिर कोच बनाया गया।

शास्त्री के कार्यकाल की बात की जाए तो द्विपक्षीय सीरीज में तो वे टीम को जीत दिला पाएं हैं, लेकि बहुकोणीय स्पर्धाओं में उनका प्रदर्शन मिश्रित रहा है। शास्‍त्री के मार्गदर्शन में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में टेस्ट सीरीज हराई। ऐसा करने वाली टीम इंडिया पहली एशियाई टीम है। लेकिन बाद में दक्षिण अफ्रीका ने भारत को भारत में ही टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया। फिर इंग्लैंड ने अपनी जमीन पर भारत को 4-1 से हराया। इंग्लैंड में हुए वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल में हार गईं। अब 2020 और 2021 में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में टीम से उम्मीदें हैं।

Posted By: Rahul Vavikar