नई दिल्ली। आज बीसीसीआई के नए प्रशासकों के नामों का ऐलान होने की उम्मीद थी लेकिन एक बार फिर फैसला टल गया है।

सुनवाई के दौरान आज सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीसीसीआई और महाअधिवक्ता (एटॉर्नी जनरल) को बंद लिफाफे में 27 जनवरी तक नए नामों के सुझाव देने के लिए कहा गया है।

सुनवाई की अगली तारीख 30 जनवरी निर्धारित की गई है। लोढ़ा कमिटी के सुझावों को देखते हुए बीसीसीआई ने ये साफ कर दिया था कि अब क्रिकेट प्रशासकों की उम्र 70 वर्ष से अधिक नहीं होगी।

गौरतलब है कि पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और पूर्व सचिव अजय शिर्के की बर्खास्तगी के बाद से बीसीसीआई में शीर्ष स्तर पर पद खाली पड़े हैं।

एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने जब मंगलवार को कोर्ट से कहा कि फैसले के बाद से बीसीसीआई की छवि को बड़ा झटका पहुंचा है और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) में भी बीसीसीआई की प्रतिनिधित्वता नहीं है।

इस पर कोर्ट ने जवाब में एटॉर्नी जनरल से कहा कि, 'जब जुलाई में हमने फैसला सुनाया था, तब आप कहां थे?'।

गौरतलब है कि इस पूरे मामले में एटॉर्नी जनरल की चौंकाने वाली एंट्री पिछले हफ्ते ही हुई है। सुप्रीम कोर्ट ने इसके अलावा आज बीसीसीआई से ये भी कहा कि वो शुक्रवार तक तीन उन नामों को भी सौंपे जो फरवरी में होने वाली आईसीसी की बैठक में बीसीसीआई की तरफ से हिस्सा लें।

इस पूरे मामले और टलते फैसले के बीच अब एक चिंता का विषय ये भी है कि ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे के दौरान कौन पूरी जिम्मेदारी संभालेगा।

फिलहाल कयास यही लगाए जा रहे हैं कि बीसीसीआई सीईओ ही तब तक इस जिम्मेदारी को संभालेंगे और फंड से जुड़े सभी मामले लोढ़ा कमिटी सेक्रेटेरिएट ही देखेगी।

Posted By: