मुंबई। रवि शास्त्री टीम इंडिया के कोच बने रहेंगे। कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकर समिति (CAC) ने शुक्रवार को इंटरव्यू लिए। कोच पदक की दौड़ में शास्त्री के बाजी मारने के पीछे उनका एक बयान था, जिसमें उन्होंने कहा कि विश्व कप सेमीफाइनल की हार को अगर छोड़ दिया जाए तो भारतीय टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया है। सीएसी ने पूछा कि विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ क्या हो गया था, तो शास्त्री ने कहा- एक खराब दिन टीम को खराब नहीं बना देता है। उन्होंने ध्यान दिलाया कि अभी उनका काम पूरा नहीं हुआ है। उनका इशारा 2020 और 2021 टी-20 विश्व कप पर था।

ऐसे कुछ मापदंड थे जिसमें शास्त्री ने हेसन को पीछे छोड़ दिया। इसमें उनके निर्देशन में टीम का विदेश में प्रदर्शन भी था। सीएसी ने यह साफ किया कि चैंपियन टीम वही होती है जो विदेश में अच्छा प्रदर्शन करे। किसी ने भी इस तथ्य को नहीं झुठलाया कि शास्त्री और कोहली की जोड़ी बेमिसाल है।

शास्त्री ने सीएसी से आगे कहा कि टीम के पास नेतृत्वकर्ता है। ऐसी कोई वजह नहीं है जिससे युवा कोहली को प्रेरणास्त्रोत नहीं माने। उन्होंने किस स्तर तक अपनी फिटनेस को पहुंचाया है। अब सभी खिलाड़ी सोचते हैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बने रहने के लिए बल्लेबाजी और गेंदबाजी के अलावा फिटनेस भी उतनी जरूरी है। सीएसी हेसन के प्रस्ताव से भी प्रभावित थी लेकिन अंत में शास्त्री का खिलाड़ियों को अच्छे से जानना हेसन पर भारी पड़ा।