साउथम्पटन। लीसेस्टर सिटी ने इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) में साउथम्पटन को 9-0 से हराकर इतिहास रच दिया। लीसेस्टर सिटी ने इसी के साथ इस फुटबॉल लीग के इतिहास की सबसे बड़ी जीत के मैनचेस्टर यूनाइटेड के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।

लीसेस्टर सिटी के इस जीत से 10 मैचों में 20 अंक हो गए और वह अंक तालिका में दूसरे स्थान पर पहुंच गया। वह शीर्ष पर मौजूद लिवरपूल से पांच अंक पीछे है। लिवरपूल को अब रविवार को टाटनहम हॉटस्पर से भिड़ना होगा। वर्तमान चैंपियन मैनचेस्टर सिटी यदि एस्टोन विला को हराएगा तो फिर दूसरे स्ठान पर पहुंच जाएगा।

इस लीग में सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड अभी तक सिर्फ मैनचेस्टर यूनाइटेड के नाम था, जब उसने 1995 में ओल्ड टैफर्ड में इप्सविक को 9-0 से हराया था। अब लीसेस्टर सबसे बड़ी जीत के मामले में मैनचेस्टर यूनाइटेड की बराबरी पर पहुंच गया।

लीसेस्टर की तरफ से आयोजे पेरेज और जैसी वार्डी ने हैट्रिक लगाई। पैरेज ने 19वें, 39वें, और 57वें मिनट में गोल दागे जबकि जैसी वार्डी ने 45वें, 58वें और 90+4वें मिनट) में गोल किए। इनके अलावा बेन चिलवेल (10वें मिनट), यॉरी टीलेमंस (17वें मिनट) और जैम्स मेडिसन (85वें मिनट) ने एक-एक गोल किए। इस क्लब के लिए 1982 के बाद यह पहला मौका था जब दो खिलाड़ियों ने एक मैच में हैट्रिक लगाई, उस समय गैरी लिनेकर और स्टीव लिनेक्स ने हैट्रिक बनाई थी।

लीसेस्टर सिटी ने एक और खास उपलब्धि हासिल की। 1984 के बाद हाफ टाइम से पहले पांच गोल दागने वाली वह पहली टीम बनी। यह साउथम्पटन की सबसे बड़ी हार है। इससे पहले उसे 20 साल पहले लिवरपूल के खिलाफ 1-7 से हार का सामना करना पड़ा था।

लीसेस्टर सिटी ने नए मैनेजर ब्रैंडन रॉजर्स के मार्गदर्शन में धमाकेदार प्रदर्शन किया। रॉजर्स ने कहा, मैंने हाफटाइम में खिलाड़ियों से कहा था कि वे अपनी गति बनाए रखे क्योंकि हमें उन्हें बुरी तरह हराना था। यह हमारी शिक्षा का हिस्सा है और मैंने खिलाड़ियों को खेल का सम्मान करते हुए निडर होकर खेलने को कहा था।

Posted By: Kiran Waikar