नई दिल्ली (एजेंसियां)। फीफा विश्व कप क्वालीफायर में अपनी से निचली रैंकिंग वाली बांग्लादेश की टीम से 1-1 से ड्रॉ खेलने का खामियाजा भारतीय टीम को रैंकिंग में गिरावट के रुप में भुगतना पड़ा। इससे भारतीय फुटबॉल टीम को गुरुवार को जारी नवीनतम फीफा रैकिंग में दो स्थानों का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही भारतीय टीम 106वें स्थान पर खिसक गई।

बता दें कि इस महीने वर्ल्ड कप क्वालीफायर में भारत ने पिछड़ने के बाद बांग्लादेश से 1-1 से ड्रॉ खेला था। इसके बाद टीम की रैंकिंग में गिरावट आई। सितंबर में एशियाई चैंपियनशिप कतर के खिलाफ भारत ने शानदार प्रदर्शन करते हुए गोल रहित ड्रॉ खेला था लेकिन बांग्लादेश के खिलाफ इस प्रदर्शन को दोहराने में सफल रहा। बांग्लादेश को इस ड्रॉ से फायदा हुआ है और वह तीन स्थान के फायदे से 184वें स्थान पर पहुंच गया है। बेल्जियम की टीम शीर्ष पर बरकरार है जबकि उसके बाद फ्रांस और ब्राजील की टीमें हैं। शीर्ष 10 में उरुग्वे (5वें), क्रोएशिया (7वें) और अर्जेंटीना (9वें) को एक-एक स्थान का फायदा हुआ है।

चीन 2021 में क्लब विश्व कप की मेजबानी करेगा

शंघाई। फीफा ने अपने विस्तारित 24 टीमों के क्लब विश्व कप के पहले टूर्नामेंट की मेजबानी चीन को सौंपी है। फुटबॉल की वैश्विक संस्था फीफा के अध्यक्ष जियानी इनफेंटिनो ने गुरुवार को इसे एतिहासिक फैसला करार दिया। फीफा के इस फैसले को फुटबॉल की दुनिया में चीन के बढ़ते रुतबे के तौर पर देखा जा सकता है और यह अंततः देश के अकेले दम पर फीफा विश्व कप की मेजबानी का रास्ता साफ कर सकता है।

इनफेंटिनो ने शंघाई में फीफा परिषद की बैठक के बाद यह घोषणा की। यह परिषद फुटबॉल की वैश्विक संस्था की फैसले करने वाली इकाई है। इस फैसले का मतलब है कि दुनिया के कुछ शीर्ष क्लब और उनके बड़े स्टार खिलाड़ी दो साल में चीन में खेलते हुए नजर आएंगे। इनफेंटिनो ने जून में कहा था कि उनके नए क्लब विश्व कप से 50 अरब डॉलर तक की व्यावसायिक आय हो सकती है। उन्होंने हालांकि यह नहीं बताया कि कितने सत्र में यह कमाई होगी। क्लब विश्व कप के अगले सत्र का आयोजन 2020 में कतर में होगा जिसमें सात टीमें हिस्सा लेंगी।

Posted By: Rahul Vavikar