कोलकाता। भारत और बांग्लादेश के बीच मंगलवार को यहां के विवेकानंद युवा भारती क्रीड़ांगन में हुआ फीफा विश्व कप क्वालीफायर मैच रोमांच की हदें पार हो गईं। मुकाबले में बेहद कमजोर माने जाने वाली बांग्लादेशी टीम ने साद उद्दीन के गोल की बदौलत एक समय भारत को हार की कगार पर ला दिया था लेकिन अंतिम मिनटों में आदिल खान के जबर्दस्त गोल के बूते भारत ने वापसी करते हुए मैच को 1-1 से बराबरी पर ला दिया। इस ड्रॉ के साथ ही बांग्लादेश का एक अंक के साथ खाता भी खुल गया।

बांग्लादेश को पिछले दो क्वालीफायर मैचों में अफगानिस्तान और कतर से शिकस्त झेलनी पड़ी थी जबकि पहले भारत ने पहला मैच ओमान से हारने के बाद दूसरे मैच में जबर्दस्त खेल दिखाते हुए बेहद मजबूत कतर को उसी के मैदान में ड्रॉ पर रोककर पहला अंक हासिल किया था। भारत के अब तीन मैचों में 2 अंक हो गए हैं।

भारत ने बनाया शुरुआती दबाव

भारत ने मैच शुरू होने के साथ ही बांग्लादेश पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था। चोट के बाद वापसी कर रहे भारतीय कप्तान सुनील छेत्री ने मैच के चौथे ही मिनट में विरोधी टीम के गोलपोस्ट पर शॉट लगाया था, जो सीधा गोलकीपर के हाथों में गया। लेकिन मैच के 41वें मिनट में बांग्लादेश के साद उद्दीन ने हेडर से गोल कर अपनी टीम को बढ़त दिला दी। इसमें हालांकि भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू की भी गलती रही, जो हवा में आ रही बॉल की दिशा का निर्धारण करने में चूक गए और गोलपोस्ट छोड़कर आगे बढ़ गए। साद उद्दीन को खाली गोलपोस्ट में हेडर से गोल करने में कोई गलती नहीं की। हाफ टाइम तक का खेल खत्म होने तक बांग्लादेश ने 1-0 की बढ़त बनाए रखी।

आदिल बने हीरो

मैच जैसे जैसे आगे बढ़ रहा था वैसे-वैसे फैंस की सांसे तेज चल रही थी। एक समय लग रहा था कि भारत ये मुकाबला हार जाएगा। लेकिन 88वें मिनट में आदिल खान ने हेडर से शानदार गोल करके स्टेडियम को अचानक जीवंत कर दिया। उनके गोल की बदौलत भारत 1-1 से मैच ड्रॉ करने में सफल रहा। भारत-बांग्लादेश के बीच अब तक 29 मैच हुए हैं, जिनमें में भारत ने अब तक 15 जीते और सिर्फ दो हारे हैं। 2013 में हुई सैफ चैंपियनशिप, 2014 में हुए अंतरराष्ट्रीय दोस्ताना मैच के बाद अब फीफा वर्ल्ड कप क्वालीफायर मिलाकर बांग्लादेश ने भारत को लगातार तीसरी बार ड्रॉ पर रोका है।

Posted By: Rahul Vavikar