India at CWG 2022: भारतीय बैडमिंटन मिक्स्ड टीम ने रजत पदक तो भारोत्तोलक लवप्रीत सिंह और गुरदीप सिंह ने कांस्य पदक जीतकर प्रशंसकों का उत्साह बनाए रखा। इसके बाद सौरव घोषाल ने स्क्वाश के पुरुष सिंगल्स में इंग्लैंड के जेम्स विल्सट्रोप को हराकर कांस्य अपने नाम किया। इसके अलावा जूडोका तूलिका मान ने रजत पदक जीता। मुक्केबाज निकहत जरीन, नीतू गंघास और मोहम्मद हुसामुद्दीन ने सेमीफाइनल में जगह बनाकर पदक पक्के कर लिए हैं। अन्य मुक्केबाज लवलीना बोरगोहाई क्वार्टर फाइनल में हार गईं।

भारतीय महिला हाकी टीम ने पूल-ए के करो या मरो के मैच में विषम परिस्थितियों से उबरते हुए अपने से कम रैंकिंग वाली कनाडाई टीम को 3-2 से हराकर सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई किया। पुरुष टीम ने कनाडा को 8-0 से पराजित कर सेमीफाइनल में पहुंचने का दावा मजबूत किया।

India at CWG 2022: जानिए छठे दिन भारत का प्रदर्शन

-मलेशिया से फाइनल में हारने के बाद भारतीय बैडमिंटन मिक्स्ड टीम ने जीता रजत पदक

-जूडोका तूलिका मान ने 78 किग्राभार वर्ग में रजत अपने नाम किया

-भारोत्तोलक लवप्रीत सिंह और गुरदीप सिंह ने जीता कांस्य पदक

- स्क्वाश खिलाड़ी सौरव घोषाल ने पुरुष सिंगल्स में जीता कांस्य

-मुक्केबाज निकहत जरीन (50 किग्रा), नीतू गंघास (48 किग्रा) और मोहम्मद हुसामुद्दीन (57 किग्रा) ने सेमीफाइनल में जगह बनाकर पदक पक्के किए

-कनाडा को हराकर महिला हाकी टीम सेमीफाइनल में पहुंची।

बैडमिंटन: नहीं चले श्रीकांत और डबल्स जोड़ियां, मलेशिया से हारा भारत

भारत को किदांबी श्रीकांत और डबल्स जोड़ियों के निराशाजनक प्रदर्शन के कारण बैडमिंटन मिक्स्ड टीम स्पर्धा के फाइनल में मलेशिया के विरुद्ध 1-3 की हार के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा। इस मैच में भारत के एकल खिलाड़ियों और मलेशिया की डबल्स जोड़ियों पर नजरें थी। भारत के सिंगल्स खिलाड़ी अपने से कम रैंकिंग वाले प्रतिद्वंद्वियों के विरुद्ध आशा के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए जिससे भारत स्वर्ण पदक जीतने से चूक गया। दूसरी तरफ मलेशिया की डबल्स जोड़ियां आशा पर खरी उतरीं।

सात्विकसाईराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की दुनिया की सातवें नंबर की जोड़ी सबसे पहले कोर्ट पर उतरी। इस जोड़ी को दुनिया की छठे नंबर की टेंग फोंग आरोन चिया और वूई यिक सोह की जोड़ी के विरुद्ध 18-21, 15-21 से हार झेलनी पड़ी। भारत को दो बार की ओलिंपिक पदक विजेता और दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी पीवी सिंधू से वापसी दिलाने की आशा थी। पूर्व विश्व चैंपियन सिंधू ने भारत को बराबरी तो दिला दी, लेकिन महिला सिंगल्स में उन्हें दुनिया की 60वें नंबर की खिलाड़ी जिन वेई गोह को 22-20, 21-17 से हराने के दौरान काफी जूझना पड़ा।

भारोत्तोलन: भारोत्तोलन में फिर पदक

भारत के लवप्रीत सिंह ने पुरुषों के 109 किग्रा में कांस्य पदक अपने नाम किया। पंजाब के 24 साल के भारोत्तोलक ने कुल 355 किग्रा का वजन उठाया। इसमें लवप्रीत ने क्लीन एंड जर्क में 192 किग्रा का भार उठाकर नया राष्ट्रीय रिकार्ड भी अपने नाम किया जिससे वह पोडियम में तीसरे स्थान पर रहे। उन्होंने स्नैच में 163 किग्रा का वजन उठाया। कैमरून के जूनियर नयाबेयेयू ने कुल 360 किग्रा के भार से स्वर्ण पदक जबकि समोआ के जैक ओपेलोगे ने 358 किग्रा वजन उठाकर रजत पदक हासिल किया। भारत ने अब तक भारोत्तोलन में आठ पदक जीत लिए जिसमें तीन स्वर्ण पदक शामिल हैं।

पूर्णिमा का निराशाजनक प्रदर्शन : भारतीय भारोत्तोलक पूर्णिमा पांडे महिलाओं की 87 किग्रा से अधिक स्पर्धा में निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए छठे स्थान पर रहीं। पूर्णिमा के छह में से सिर्फ दो प्रयास वैध रहे जो कुल भार दर्ज कराने के लिए न्यूनतम अनिवार्यता होती है। उन्होंने स्नैच में 103 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 125 किग्रा से कुल 228 किग्रा वजन उठाया। क्लीन एंड जर्क में अंतिम दो प्रयास में 133 किग्रा वजन उठाते हुए भार उनके हाथ से फिसल गया। भारतीय भारोत्तोलक मौजूदा खेलों में तीन स्वर्ण सहित कुल नौ पदक जीत चुके हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close