Commonwealth Games Trials: पहलवान सतेंदर मलिक मंगलवार को राष्ट्रमंडल खेलों के ट्रायल के दौरान अपना आपा खो बैठे। उन्होंने मुकाबला हारने के बाद रेफरी जगबीर सिंह पर हमला कर दिया। जिसके बाद राष्ट्रीय महासंघ ने उनपर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है। सतेंदर निर्याणक मैच के खत्म होने से 18 सेकंड पहले 3-0 से आगे थे, लेकिन विरोधी रेसलर मोहित ने टेक-डाउन करने बाद मैट से बाहर कर दिया।

रेफरी ने मोहित को टेक डाउन के दो पॉइंट्स नहीं दिए। पहलवान ने फैसले को चुनौती दी। बाउट के जूरी सत्यदेव मलिक ने खुद को निर्णय से अलग कर लिया। उन्होंने कहा कि वह भी मोखरा गांव के है, जहां से सतेंदर भी है। ऐसे में अनुभवी रेफरी जगबीर सिंह से इस चुनौती पर फैसला करने का अनुरोध किया गया। उन्होंने टीवी रिप्ले की मदद से मोहित को तीन अंक दिए। जिसके बाद स्कोर 3-3 हो गया।

मैच का आखिरी अंक हासिल करने पर पहलवान मोहित को विजेता घोषित किया गया। इस फैसले से सतेंदर नाराज हो गए। वह 57 किग्रा के मुकाबेले के मैच पर चले गए। जहां रवि दहिया और पहलवान अमन के बीच फाइनल चल रहा था, जहां रेफरी जगभीर भी थे।

सतेंदर मलिक, जगबीर सिहं के पास पहुंचकर उनके साथ हाथापाई करने लगे। उसके पहले रेफरी को गाली और फिर थप्पड़ दिया। इसके बाद 57 किग्रा का मुकाबला रुक गया। इस घटना के बाद इंदिरा गांधी स्टेडियम के केडी जाधव हॉल के अंदर हंगामा मच गया। भारतीय कुश्ती महासंघ के अधिकारियों ने पहलवान को हॉल से बाहर भेजा और मुकाबला शुरू कराया। डब्ल्यूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा, हमने सतेंदर मलिक पर आजीवन प्रतिबंध लगाया है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close