Mirabai Chanu: बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों के दूसरे दिन भारत ने तीन पदक जीते। वहीं रविवार सुबह चौथा पदक भी मिल गया। चारों पदक भारोत्तोलन में आए। टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता मीराबाई चानू ने महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में पहला स्थान हासिल कर देश का पहला स्वर्ण पदक जीता। उनसे पहले संकेत महादेव सरगर ने रजत पदक जीता था और देश को इस राष्ट्रमंडल खेलों का पहला पदक दिलाया था। गुरुराजा पुजारी ने तीसरा स्थान हासिल कर कांस्य पदक जीता था। रविवार सुबह भारोत्तोलक बिंद्यारानी देवी ने रजत पदक जीतकर देश को चौथा पदक दिला दिया है। इसके अलावा बैडमिंटन, टेबल टेनिस और बॉक्सिंग में भी भारतीय खिलाड़ियों ने बेहतर प्रदर्शन किया।

Mirabai Chanu: स्वर्ण पदक जीतने के बाद क्या बोंली मीराबाई चानू

स्वर्ण पदक जीतने के बाद मीराबाई चानू ने कहा, सभी को पता है कि कामनवेल्थ गेम्स मेरे लिए आसान है, लेकिन मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने के लिए खुद से लड़ाई लड़ी है। मैंने यह लक्ष्य बनाया था कि स्नैच में अच्छा करूंगी क्योंकि मैं इसमें कमजोर थी। टोक्यो के बाद मैंने इसमें सुधार करने की कोशिश की। मैंने कामनवेल्थ गेम्स को हमेशा से गंभीरता से लिया है। मैं जानती हूं कि मुझे किन चीजों में सुधार करने की जरूरत है। मैं भारत पहुंचकर अपने पदक का जश्न मनाना चाहती हूं। मैं अपने वजन के बढ़ने की चिंता किए बगैर पिज्जा खाना चाहती हूं।

बर्मिंघम में चानू

  • स्नैच : 88 किग्रा
  • क्लीन एंड जर्क : 113 किग्रा
  • कुल वजन उठाया : 201 किग्रा

मीराबाई का बड़े टूर्नामेंट में प्रदर्शन

  • कामनवेल्थ गेम्स 2014: 48 किग्रा, रजत
  • कामनवेल्थ गेम्स 2018: 48 किग्रा, स्वर्ण
  • कामनवेल्थ गेम्स 2022: 49 किग्रा, स्वर्ण
  • विश्व चैंपियनशिप 2017: 48 किग्रा, स्वर्ण
  • ओलिंपिक 2021: 49 किग्रा, रजत

Posted By:

  • Font Size
  • Close