Tokyo Olympics: आखिरी राउंड के खत्म होने के बाद भारतीय डिस्क थ्रोअर ने छठा स्थान हासिल किया और इसी के साथ भारत के इस खेल में पदक जीतने की उम्मीद खत्म हो गई। कमलप्रीत ने 63.70 मीटर का अपना सर्वश्रेष्ठ थ्रो लेकिन अंतिम तीन में जगह नहीं बना पाई। 68.98 मीटर की थ्रो करने वाली अमेरिका की अलामान वालारिया ने गोल्ड मेडल हासिल किया। ग्रेट ब्रिटेन की क्रिस्टीन 66.86 मीटर चक्का फेंककर सिल्वर जबकि क्यूबा की यामीन ने 65.72 मीटर चक्का फेंकते हुए ब्रान्ज हासिल किया। आखिरी आठ खिलाड़ियों को बीच अब मेडल हासिल करने के लिए मुकाबला होगा। कमलप्रीत ने 63.70 मीटर का अपना सर्वश्रेष्ठ थ्रो करते हुए फाइनल में जगह बनाई। वहीं 68.98 मीटर की थ्रो करने वाली अमेरिका की अलामान वालारिया टॉप पर रही। ग्रेट ब्रिटेन की क्रिस्टीन 66.86 मीटर चक्का फेंककर दूसरे जबकि क्यूबा की यामीन ने 65.72 मीटर चक्का फेंकते हुए तीसरा स्थान हासिल किया।

इससे पहले पहले थ्रो में कमलप्रीत छठे स्थान रही और उन्होंने 61.62 मीटर की दूरी तक चक्का फेंका। पहले थ्रो में अमेरिका की प्रतियोगी ने 68.98 की दूरी तक चक्का फेंक कर टॉप पोजिशन बनाया। चक्का फेंक कमलप्रीत कौर से देश को काफी उम्मीदें हैं। चक्का फेंक में कमलप्रीत कौर ने अपने तीसरे प्रयास में 64 मीटर के थ्रो के साथ क्वालीफिकेशन दौर में दूसरे स्थान पर रहकर फाइनल में जगह बनाई। दोनों पूल में 31 खिलाड़ियों को मिलाकर वह सिर्फ अमेरिका की वालारी आलमैन से पीछे दूसरे स्थान पर रहीं, जिन्होंने 66.42 मीटर का थ्रो फेंका। ऐसे में कमलप्रीत के पदक जीतने की संभावना काफी मजबूत हुई है।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close