#TokyoOlympics: भारतीय पुरुष हॉकी टीम क्वार्टर फाइनल में ग्रेट ब्रिटेन को 3-1 से हराकर सेमीफाइनल में पहुंची। कप्तान मनप्रीत सिंह की अगुआई वाली भारतीय पुरुष हाकी टीम ने ग्रेट ब्रिटेन को क्वार्टर फाइनल में 3-0 की हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली है। टीम का इरादा अब चार दशक बाद ओलिंपिक पदक जीतने के साथ गौरवशाली इतिहास को दोहराने का होगा। ओलिंपिक में भारत को आखिरी पदक 1980 में मास्को में मिला था जब वासुदेवन भास्करन की कप्तानी में टीम ने पीला तमगा जीता था। भारतीय पुरुष हाकी टीम ने ग्रेट ब्रिटेन को 3-1 से हराकर 41 साल से चले आ रहे ओलिंपिक पदक के सूखे को खत्म करने की ओर मजबूत कदम बढ़ाए।

भारत की तरफ से दिलप्रीत सिंह (सातवें), गुरजंत सिंह (16वें) और हार्दिक सिंह (57वें मिनट) ने गोल किए। ग्रेट ब्रिटेन की तरफ से एकमात्र गोल सैमुअल इयान वार्ड (45वें) ने किया। मनप्रीत सिंह की अगुआई वाली यह भारतीय टीम अब मंगलवार को सेमीफाइनल में मौजूदा विश्व चैंपियन बेल्जियम से भिड़ेगी, जिसने क्वार्टर फाइनल में स्पेन को 3-1 से हराया।

भारत ने ओलिंपिक में अपना आखिरी पदक 1980 मास्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक के रूप में जीता था, लेकिन तब केवल छह टीमों ने भाग लिया था और राउंड रोबिन आधार पर शीर्ष पर रहने वाली दो टीमों के बीच स्वर्ण पदक का मुकाबला हुआ था। इस तरह से भारत 1972 में म्यूनिख ओलंपिक के बाद पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचा है। चौथे और अंतिम दौर में एक ओवर 72 के स्कोर के साथ पुरुष गोल्फ स्पर्धा में संयुक्त 42वें स्थान पर रहे।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close