उलान उदे। Womens World Boxing Championships: पिछली बार की कांस्य पदक विजेता लोवलिना बोर्गोहेन और जमुना बोरो ने बुधवार को महिला वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में अपने-अपने वर्गों के क्वार्टरफाइनल में प्रवेश किया। लोवलिना ने 69 किग्रा और पहली बार इस चैंपियनशिप में खेल रही जमुना ने 54 किग्रा वर्ग के अंतिम आठ में जगह बनाई। अब ये पदक जीतने से मात्र एक जीत की दूरी पर हैं।

जमुना ने पांचवें क्रम की अल्जीरिया की औडेड सौह को 5-0 से हराया। जमुना का अब मुकाबला चौथे क्रम की बेलारुस की युलिया अपानासोविच से होगा। युलिया ने प्री-क्वार्टरफाइनल में जर्मनी की उर्सुला गुटलोब को हराकर अंतिम आठ में जगह बनाई।

असम राइफल्स की 22 वर्षीया बोरो ने अफ्रीकन गेम्स की स्वर्ण पदक विजेता सौह को आसानी से हराया। इस भारतीय मुक्केबाज ने पूरे मुकाबले में आक्रामक प्रदर्शन किया। उन्होंने दूसरे और तीसरे राउंड में जबर्दस्त पंचेस जड़े। तीसरे राउंड में तो बोरो के सामने अल्जीरियाई मुक्केबाज टिक ही नहीं पाई। जमुना ने इस साल इंडिया ओपन में स्वर्ण पदक जीता था। वो 2015 की यूथ वर्ल्ड चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता थी।

69 किग्रा वर्ग में लोवलिना ने मोरक्को की ओमाय्मा बेल अहबीब को एकतरफा अंदाज में 5-0 से पराजित किया। अब उनका मुकाबला छठे क्रम की पोलैंड की केरोलिना कोस्जेवस्का से होगा, जिन्होंने उज्बेकिस्तान की शाखनोजा युनुसोवा को हराया। कोस्जेवस्का ने इस साल यूरोपियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था। लोवलिना ने शुरू में संभलकर प्रदर्शन किया। उन्होंने अहबीब से दूरी बनाए रखी। मोरक्को की मुक्केबाज आक्रामक होकर खेल रही थी लेकिन लोवलिना उनके पंचेस से बच रही थी। लोवलिना ने उचित समय पर काउंटर अटैक के जरिए अंक बटोरे। वे अपने पंचेस से स्कोर बनाने में सफल रहीं।

पांच भारतीय मुक्केबाज क्वार्टरफाइनल में पहुंच चुकी हैं। एमसी मैरी कॉम (51 किग्रा), मंजू रानी (48 किग्रा), कविता चहल (+81 किग्रा) पहले ही अपने-अपने वर्गों में क्वार्टरफाइनल में पहुंच चुकी है।