Wimbledon 2021: विंबल्डन ने किसी भारतीय खिलाड़ी ने तो नहीं, लेकिन भारतीय मूल के अमेरिकी खिलाड़ी ने कमाल दिखाया है। समीर बनर्जी (Samir Banerjee) ने जूनियर सिंगल्स के फाइनल में अमेरिका के ही विक्टर लिलोव को सीधे सेटों में 7-5, 6-3 से हराकर खिताब जीत लिया। अमेरिका से पिछले 6 सालों में किसी ने भी जूनियर लेवल पर विंबल्डन चैंपियनशिप नहीं जीता था। भारतीय मूल के समीर बनर्जी ने अपने जूनियर करियर के दूसरे ही ग्रैंड स्लैम में ये कमाल कर दिखाया। न्यू जर्सी के रहने वाले 17 साल के समीर बनर्जी ने इससे पहले फ्रेंच ओपन में हिस्सा लिया था, लेकिन पहले ही राउंड में बाहर हो गए थे। इस बार उन्होंने न सिर्फ पहला दौर पार किया, बल्कि पूरे टूर्नामेंट में अपना जलवा दिखाया और लगातार जीत हासिल करते हुए खिताब पर कब्जा कर लिया।

फाइनल मुकाबले में समीर और विक्टर की पहले सेट में जोरदार टक्कर हुई और दोनों खिलाड़ियों ने 5-5 गेम जीतकर सेट को 7वें गेम तक पहुंचाया। यहां समीर ने आखिरी दोनों गेम जीतकर सेट को अपने नाम कर लिया। जूनियर सर्किट में 19वीं रैंक प्राप्त समीर बनर्जी ने सिर्फ एक घंटा और 22 मिनट में फाइनल मैच जीत लिया। वैसे इससे पहले भी जूनियर सर्किट में समीर बनर्जी का प्रदर्शन अच्छा रहा है। वह अभी तक 16 टूर्नामेंट में हिस्सा ले चुके हैं और 10 बार फाइनल खेल चुके हैं। भारतीय मूल के समीर बनर्जी के माता-पिता 1980 के दशक में ही अमेरिका चले गए थे और तब से वहीं बसे हुए हैं।

Posted By: Shailendra Kumar