नई दिल्ली। एक भारतीय दर्शक रोजाना करीब 70 मिनट वीडियो देखता है। उसके वीडियो देखने का अंतराल सप्ताह में करीब 12.5 गुना हो जाता है। एक दर्शक वीडियो देखने के लिए विभिन्न माध्यमों का इस्तेमाल करता है।

रिपोर्ट बताती है कि दर्शक एक नियत समय पर 2.5 से ज्यादा वीडियो प्लेटफार्म पर जाता है। उसकी पहली पसंद स्मार्ट टीवी और इस प्रकार की बड़ी स्क्रीन होती है। निष्कर्ष बताते हैं कि 30 फीसद लोगों ने ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म पर सिनेमा देखने को वरीयता दी।

ईरोज नाउ-केपीएमजी की रिपोर्ट में इस प्रकार की कई बातें सामने आई हैं। भारत में वर्ष 2022 तक इंटरनेट वीडियो ट्रैफिक की पहुंच 13.5 एक्साबाइट (ईबी) हो जाएगी, जो वर्ष 2017 में 1.5 ईबी थी।

इसी प्रकार वर्ष 2022 तक कुल इंटरनेट ट्रैफिक में 77 फीसदी योगदान वीडियो का होगा। फिलहाल भारत में 30 से ज्यादा वीडियो ऑन डिमांड (वीओडी) प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं। मौलिक सामग्री के साथ नई लाइब्रेरी बनाने के लिए लोग इस क्षेत्र में निवेश भी कर रहे हैं।