बीजिंग। चीन ने दुनियाभर में ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा मुहैया कराने के लिए शनिवार को अपना पहला संचार उपग्रह प्रक्षेपित किया। चीन के इस कदम को प्रतिद्वंद्वी गूगल और दूसरी अंतरराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी कंपनियों को चुनौती देने के तौर पर देखा जा रहा है। ये कंपनियां फ्री इंटरनेट के लिए सेटेलाइट का उपयोग करने की योजना पर पहले से ही काम कर रही हैं।

सरकारी अखबार चाइना डेली के अनुसार, उत्तर-पश्चिम चीन में स्थित जिउक्वान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से इस सेटेलाइट को लांग मार्च-11 रॉकेट के जरिये लांच किया गया। इस सेटेलाइट को सरकारी हाइटेक कंपनी चाइना एयरोस्पेस साइंस एंड इंडस्ट्री कार्प (सीएएसआइसी) की हांग्यून परियोजना के तहत लांच किया गया है।

सितंबर, 2016 में शुरू हुई इस परियोजना के तहत अंतरिक्ष आधारित संचार नेटवर्क का निर्माण किया जाना है। सीएएसआइसी में हांग्यून प्रोजेक्ट के प्रमुख शिआंग काइहेंग ने कहा कि 247 किलोग्राम वजनी यह उपग्रह धरती से करीब 11 हजार किमी की ऊंचाई पर परिक्रमा करेगा। इसे सूर्य से ऊर्जा मिलेगी। सीएएसआइसी का इरादा साल 2023 तक 150 से ज्यादा हांग्यून सेटेलाइट्स को धरती से एक हजार किमी ऊपर की कक्षा में स्थापित करने का है।