मल्टीमीडिया डेस्क। सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म पर मौजूद हजारों एप्स सस्पेंड कर दी हैं। शुक्रवार को कंपनी द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि फेसबुक ने यह फैसला कैंब्रिज एनालिटिका मामले में पिछले साल मार्च में जांच शुरू होने के बाद लिया है। जिन एप्स को सस्पेंड किया गया है वो 400 से ज्यादा डेवलपर्स से संबंधित हैं। साथ ही कंपनी ने यह भी साफ किया है कि उसके इस कदम का मतलब यह नहीं है कि यह एप्स लोगों के लिए खतरनाक हैं।

फेसबुक द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गयाहै कि, 'हमारी ऐप डेवलपर इन्वेंस्टीगेशन खत्म हो गई है। इसमें एक काम की बात बताने योग्य है और वो यह है कि आज तक जांच में लाखों एप्स सामने आईं और उनमें से हमने हजारों एप्स को सस्पेंड किया है। इसके पीछे अलग-अलग कारण हैं जिनकी जांच कर रहे हैं।'

बता दें कि पिछले साल यह जांच तक शुरूकी गई थी जब इस बात का खुलासा हुआ था कि कैंब्रिज एनालिटिका नामक ब्रिटिश कंसल्टेंसी कंपनी ने फेसबुक के 87 मिलियन यूजर्स का डेटा बिना अनुमति के ले लिया था। इसके लिए सोशल मीडिया कंपनी के 5 बिलियन डॉलर का जुर्माना देने का आदेश भी दिया गया था। फेडरल ट्रेड कमिशन द्वारा लगाए गए इस जुर्माने को कंज्यूमर पॉलिसी का उल्लंघन करने पर लगाया गया सबसे बड़ा जुर्माना बताया गया था।