आईफोन खरीदना हर आदमी का एक सपना होता है। एप्पल के फोन काफी महंगे होते है। हालांकि मार्केट में अब सस्ते दाम में आईफोन मिलने लगे है। पैसे बचाने के चक्कर में ग्राहक इसे खरीदत लेते हैं, बाद में उन्हें अपने साथ हुई ठगी का अहसास होता है। दरअसल अब बाजार में नकली स्मार्टफोन बिक रहे है, जो दिखते आईफोन जैसे ही है। लेकिन उनका सॉफ्टवेयर आईओएस नहीं बल्कि एंड्राइड होता है। ग्राहक कुछ आसान ट्रिक्स से नकली और असली आईफोन का पता लगा सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे-

Fake iPhones: कैसे पता करें नकली आईफोन

- बॉक्स खोलने से पहले उसका IMEI नंबर देखना चाहिए। जिसे एप्पल की वेबसाइट पर चेक भी किया जा सकता है। पैकेजिंग पर लिखा IMEI नंबर https://checkcoverage.apple.com/in/en पर दर्ज करें। अगर फोन नकली है, वेबसाइट बता देगा।

- आईफोन एक्स या बाद के मॉडल पर डिस्प्ले बेजल सबसे आसान पहचान है।

- एप्पल लाइटनिंग पोर्ट के चारों ओर चेसिस को सुरक्षित करने के लिए पेंटालोब स्क्रू का इस्तेमाल करती है।

- चार्जिंग पोर्ट से भी आईफोन के नकली और असली होने का पता लगाया जा सकता है।

- सॉफ्टवेयर की जांच कर भी फोन के बारे में पता चल जाता है।

- आईफोन का इस्तेमाल करने के लिए एप्पल आईडी बनानी पड़ती है। अगर आपके आईफोन सेट की स्क्रीन पर गूगल या अन्य अकाउंट से लॉगइन करने को कहें, तो समझ जाएं कि नकली है।

- आईफोन के एप स्टोर पर जाएं। अगर गूगल प्ले स्टोर या थर्ड पार्टी एप का स्टोर दिखें तो फोन नकली है।

- अब वॉयस असिस्टेंट देखने के लिए कुछ सेकंड पावर बटन को दबाए रखें। अगर Siri दिखाई देती है, तो फोन असली है।

- फोन की सेटिंग पर जाकर General पर जाएं। अगर आपका आईफोन नकली है तो वहां आईओएस की जगह एंड्राइड का कोई वर्जन दिखाई देता है।

Posted By: Arvind Dubey