नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप पर मैसेज के स्त्रोत का पता लगाने के मसले पर सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय के अधिकारियों और कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच इस हफ्ते वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत हुई है।

सूत्रों ने बताया कि सरकार सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मैसेज भेजने वालों की पहचान बताने के लिए जोर दे रही है। सोशल मीडिया पर फर्जी संदेश वायरल होने से कई जगहों पर बवाल की घटनाएं सामने आई हैं। एक सरकारी अधिकारी के मुताबित यह बातचीत 4 दिसंबर को हुई थी। लेकिन बातचीत के नतीजों के बारे में कुछ जानकारी नहीं मिल पाई है।

व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने बताया कि लोगों को प्राइवेट और सुरक्षित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मुहैया कराने के मसले पर उसकी भारत सरकार से लगातार बातचीत होती रहती है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए हम आगे भी बातचीत जारी रखेंगे।

व्हाट्सएप पर मॉब लिंचिंग से जुड़े फर्जी मैसेज वायरल होने से भारत में कई जगह दंगे भड़के थे जिसके बाद से कंपनी पर अपने प्लेटफॉर्म पर फर्जी मैसेजों के प्रसारण पर रोक लगाने का दबाव बढ़ा है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस