वॉशिंगटन। पर्सनल कंप्यूटर पर आज भी कई लोगों को विंडोज का पुराना संस्करण चलाते हुए देखना आश्चर्यजनक नहीं है। हो सकता है कि लोग खुद ही विंडोज 10 के सर्विस मॉडल पर स्विच करने से इंकार कर रहे हों, या उनका आईटी विभाग आलसी हो, मगर, पीसी पर विंडोज 7 देखना आज भी बहुत आम बात है।

हालांकि, अब आगे बढ़ने के लिए यह एक अच्छा समय हो सकता है। दरअसल, माइक्रोसॉफ्ट ने घोषणा की है कि अब से एक साल के बाद विंडोज 7 के लिए सिक्योरिटी अपडेट या फ्री सपोर्ट अब नहीं मिलेगा।

बताते चलें कि विंडोज 7 माइक्रोसॉफ्ट के लिए एक बड़ी सफलता साबित हुआ था। इसके बाद विंडोज 8 आया, जो कुछ हद तक लोगों को पसंद आया। इसके बाद विंडोज 10 एक बड़ा सुधार किया गया, लेकिन माइक्रोसॉफ्ट के नए अपडेट-संचालित मॉडल और इंटीग्रेटेड विज्ञापनों ने कई यूजर्स को माइक्रोसॉफ्ट के लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम से दूर कर दिया।

हालांकि, विंडोज 7 की लोकप्रियता सबसे अधिक रही है। अब भी एनालिटिक्स सर्विस नेट एप्लिकेशन के अनुसार, विंडोज 7 करीब 42.8 प्रतिशत विंडोज पीसी पर इंस्टॉल है और काम कर रहा है। यह काफी बड़ी संख्या है। माना जा रहा है कि 14 जनवरी 2020 से विंडोज 7 को अपडेट बंद करने के बाद भी बड़ी संख्या में कंप्यूटर में यह इस्तेमाल होता रहेगा।

हालांकि, माइक्रोसॉफ्ट उस तिथि तक यूजर्स को विंडोज 7 पर स्विच करने पर जोर दे रहा होगा। बताया जा रहा है कि सिर्फ एक साल तक ही फ्री सपोर्ट मिलेगा। इसके बाद तीन साल तक कुछ कीमत चुकाने पर ही सिक्योरिटी अपडेट्स मिलेंगे, जिनकी कीमत हर साल बढ़ती जाएगी।