लंदन। दूरसंचार क्षेत्र में दुनिया का सबसे बड़ा आयोजन Mobile World Congress (MWC) कोरोना वायरस की चपेट में आ गया है। दूरसंचार कंपनियों के वैश्विक संगठन जीएसएम एसोसिएशन (GSMA) ने कोरोना वायरस से जुड़ी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के कारण स्पेन के बार्सिलोना में होने वाले एमडब्ल्यूसी का इस वर्ष का संस्करण रद्द करने का फैसला किया है। यह कार्यक्रम 24-27 फरवरी को होना था।

GSMA ने गुरुवार को अपने फैसले की वजह बताते हुए कहा है कि एमडब्ल्यूसी-2020 को लेकर आगे बढ़ना असंभव हो गया था। बयान के मुताबिक "बार्सिलोना और स्पेन में सुरक्षित और स्वस्थ माहौल बनाए रखने के लिए संगठन ने इस साल मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस रद कर दिया है। इस समय हमारी सहानुभूति चीन और दुनियाभर में कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों के साथ है। हम मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस के 2021 और आगे के संस्करणों के लिए साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे।"

GSMA के सीईओ जॉन हॉफमैन ने एक बयान में कहा, "कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच यात्रा और अन्य परिस्थितियों को लेकर पूरी दुनिया में चिंता जताई जा रही है।" एमडब्ल्यूसी में हर वर्ष लगभग एक लाख लोग आते हैं। इनमें 6,000 से अधिक लोग केवल चीन से बार्सिलोना आते हैं। लेकिन पिछले लगभग एक महीने में कोरोना वायरस से 1,100 से ज्यादा मौतें हो जाने की वजह से आयोजकों ने एमडब्ल्यूसी को रद करना ही ठीक समझा।

निराशाजनक फैसला

सीसीएस इनसाइट कंसल्टेंसी के टेलीकॉम इंडस्ट्री विश्लेषक बेन वुड ने कहा, "यह बेहद निराशाजनक है कि इस साल शो नहीं होगा। ऐसी छोटी कंपनियां जो खास तौर पर ऐसे मौकों के लिए अपने बजट का एक बड़ा हिस्सा निवेश करती हैं, उनके नुकसान को कमतर नहीं आंका जाना चाहिए। एमडब्ल्यूसी कई लोगों के लिए बड़ा मौका होता है। अब उन्हें इस कठिन परिस्थिति से उबरने का कोई नया तरीका तलाशना होगा, जो चुनौतीपूर्ण है।"

ऐसा होता है आयोजन

GSMA वर्ष 2006 से बार्सिलोना में लगातार एमडब्ल्यूसी का आयोजन करता रहा है। इस कार्यक्रम में विभिन्न देशों के मंत्री, नीति निर्माता, टेलीकॉम सेक्टर की कंपनियां एवं उनके अधिकारी इस सेक्टर की टेक्नोलॉजी में आए बदलावों समेत अतीत, वर्तमान और भविष्य पर मंथन करते हैं। इस मौके पर दुनियाभर की टेलीकॉम कंपनियां भविष्य की टेलीकॉम टेक्नोलॉजी की झलक भी दिखाती रही हैं।

पीछे हट गई थीं कई बड़ी कंपनियां

चीन में फैले कोरोना वायरस के चलते कई दिग्गज कंपनियों ने मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस से किनारा कर लिया था। इनमें वोडाफोन, सिस्को, एलजी, नोकिया, वीवो, एनटीटी डोकोमो, सोनी, अमेजन, फेसबुक, मीडियाटेक और इंटेल जैसे बड़े नाम शामिल हैं।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket