अमेरिका में वीडियो शेयरिंग एप टिकटॉक के अधिग्रहण की दौड़ में ओरेकल ने माइक्रोसॉफ्ट को पछाड़ दिया है। इस डील के लिए माइक्रोसॉफ्ट की बोली खारिज कर दी गई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने टिकटॉक के अमेरिकी परिचालन की बिक्री के लिए 20 सितंबर की समयसीमा तय की थी। ट्रंप ने कहा था कि यदि 20 सितंबर तक टिकटॉक की बिक्री किसी अमेरिकी कंपनी को नहीं की जाती है, तो इस एप पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। ट्रंप प्रशासन का कहना था कि टिकटॉक के चीन के स्वामित्व की वजह से यह एप अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है।

सूत्रों ने रविवार को बताया कि टिकटॉक का स्वामित्व रखने वाली कंपनी बाइटडांस ने इस डील के लिए माइक्रोसॉफ्ट के बजाय ओरेकल का चयन किया है। इस सौदे से अमेरिकी में यह लोकप्रिय एप चलन में बनी रह सकती है। माइक्रोसॉफ्ट ने रविवार कहा कि बाइटडांस ने उसे सूचित किया है कि इस अधिग्रहण के लिए उसकी बोली खारिज कर दी गई है। माइक्रोसॉफ्ट ने कहा, 'हमें भरोसा है कि हमारा प्रस्ताव टिकटॉक के यूजर्स के लिए अच्छा है। साथ ही हम राष्ट्रीय सुरक्षा हितों का भी सरंक्षण करते।'

'द न्यूयॉर्क टाइम्स' की एक रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि टिकटॉक की ओर से टेक्नोलॉजी पार्टनर के तौर पर ओरेकल का चयन उसकी (ओरेकल) तरफ से सोशल मीडिया एप में बहुलांश हिस्सेदारी हासिल करने को लेकर भी है या नहीं। दूसरी तरफ 'द वॉल स्ट्रीट जर्नल' की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ओरेकल को टिकटॉक का टेक्नोलॉजी पार्टनर घोषित किया जाएगा। इस डील को पूरी तरह सीधी बिक्री नहीं कहा जा सकता। इससे पहले वॉलमार्ट ने इस अधिग्रहण में माइक्रोसॉफ्ट के साथ भागीदारी की इच्छा जताई थी। वॉलमार्ट ने रविवार को कहा कि उसकी टिकटॉक में निवेश करने में दिलचस्पी है और वह इस बारे में बाइटडांस और अन्य पक्षों से बातचीत कर रही है।

चेक गणराज्य की कंपनी गाइडविजन का 260 करोड़ रुपये में अधिग्रहण करेगी इन्फोसिस

आईटी सेक्टर की दिग्गज घरेलू कंपनी इन्फोसिस ने चेक गणराज्य की कंपनी गाइडविजन का तीन करोड़ यूरो (260.4 करोड़ रुपये) में अधिग्रहण करने की घोषणा की है। इन्फोसिस ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बताया है कि यह अधिग्रहण उसकी सहायक कंपनी इन्फी कंसल्टिंग के माध्यम से किया जाएगा।

इन्फोसिस की तरफ से सोमवार को जारी बयान में कहा गया है, 'गाइडविजन की प्रशिक्षण अकादमी और चेक गणराज्य, हंगरी व पोलैंड में निकटवर्ती क्षमताओं एवं जर्मनी व फिनलैंड में मौजूदगी से उसकी यूरोप के अपने ग्राहकों के लिए 'सर्विसनाऊ' की क्षमता मजबूत होगी।'

सर्विसनाऊ एक तरह सॉफ्टवेयर कंपनी होती है, जो क्लाउड कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म का विकास करती है। इससे कंपनियों को डिजिटल कामकाज के प्रबंधन में मदद मिलती है। कंपनी ने कहा कि यह अधिग्रहण चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में पूरा होने की उम्मीद है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020