मल्टीमीडिया डेस्क। इन दिनों मोबाइल के जिस्प्ले की स्क्रीन को बेहतर और तेज बनाने के लिए बेहतर इंटरफेस बनाए जा रहे हैं। जहां कंपनियां टच को और तेज और स्मूद बनाने में लगी हैं वहीं दूसरी तरफ शोधकर्ताओं ने एक ऐसा इंटरफेस बनाया है जो इंसानी स्किन की तरह है और उसी की तरह छूने या काटने पर उस चीज को महसूस कर सकता है। इसे Skin On इंटरफेस कहा जा रहा है जो ना सिर्फ इंसानी चमड़ी की तरह नजर आता है बल्कि मोबाइल या गैजेट इंटरफेस की दुनिया में बड़ी संसेशन है। रिसर्चर्स ने स्टडी के दौरान इस इंटरफेस से फोन केस, कंम्प्यूटर टच पैड और स्मार्ट वॉच बनाए।

उन्होंने इन सारे प्रोडक्ट्स को यह दिखाने के लिए बनाया था कि कैसे 'स्किन ऑन' इंटरफेस पर टच करने के साथ ही वो कम्प्यूटर के माध्यम से होने वाले कम्यूनिकेशन में कैसे एक्सप्रेशन ला सकता है। इसे साबित करने के लिए रिसर्चर्स ने जब इस पर गुदगुदी की तो इसने फोन में हंसने वाली इमोजी शो कर दी, वहीं टैप करने पर सरप्राइज वाली इमोजी नजर आने लगी।

टेलिकॉम पेरिस टेक के मार्ट टेजीयर जो इस स्टडी को लीड कर रहे हैं उनके अनुसार, स्मार्टफोन का सबसे अहम उपयोग होता है कम्यूनिकेशन या संचार, यह या तो टेक्स्ट, आवाज, वीडियो या फिर इन सब को मिलाकर किया जाता है। हमने ऐसी मैसेजिंग ऐप इम्प्लीमेंट की जो यूजर को आर्टिफिशियल स्किन पर टेक्टिकल इमोशन दिखाने में मदद करे। इसमें स्किन पर किया जाने वाला टच, इमोजी की साइज का निर्धारण करता है। इसमें मजबूत ग्रिप गुस्से की इमोजी दिखाती है वहीं गुदगुदी से हंसने वाली इमोजी नजर आती है साथ ही टैप करने पर सरप्राइज वाली इमोजी नजर आती है।

खबरों के अनुसार, यह स्टडी 32वें ACM User Interface Software and Technology Symposium में पेश की जाएगी जो 20-23 अक्टूबर के बीच अमेरिका में हो रहा है।

Posted By: Ajay Barve