आज छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती है। 19 फरवरी 1630 को पुणे में जन्में शिवाजी महाराज ने अखंड भारत और स्वराज का सपना देखा और मराठा साम्राज्य खड़ा किया था। शिवाजी महाराज को इतिहास के बहादुर, बुद्धिमान, शौर्य से पूर्ण और महान राजा के रूप में पूजा जाता है। शिवाजी महाराज के शासन में आम जनता को न्याय मिला और यही कारण है कि आज भी उन्हें जनता का राजा कहा जाता है। महाराष्ट्र में तो उनकी आज भी पूजा होती है। शिवाजी पिता शाहजी और माता जीजाबाई के पुत्र थे। उनका जन्म स्थान पुणे के पास स्थित शिवनेरी का दुर्ग है।

सन 1674 में रायगढ़ में उनका राज्याभिषेक हुआ और वह "छत्रपति" बने। बहुत से लोग इन्हें हिन्दू हृदय सम्राट कहते हैं तो कुछ लोग इन्हें मराठा गौरव कहते हैं। आज उन्हीं की जयंती पर हम आपके लिए लाएं हैं शुभकामना संदेश, तो देर किस बात की इन मैसेज और तस्वीरें दें शिवाजी जयंती की शुभकामनाएं

सह्याद्रीच्या छाताडातून, नाद भवानी गाजे

काळजात राहती अमुच्या, रक्तात वाहती राजे !!

तूफान गर्जतो, आग ओकतो,

वाघ मराठी माझा !

सन्मान राखतो, जान झोकतो

तुफानं मातीचा राजा !

-----------------

सूर्य नारायण जर उगवले नसते तर..

आकाशाचा रंगचं समजला नसता..

जर छत्रपती शिवाजी राजे जन्मले नसते तर..

खरचं हिंदु धर्माचा अर्थच समजला नसता..

हे हिंदु प्रभो शिवाजी राजा

बघतोस काय रागाने ?

कोतळा काढलाय वाघाने !

---------------------------

पाठीवर शिवाजी आन

छाताडावर संभाजी कोरलाय..

अन जीवाचं नाव भंडारा ठेवलाय,

उधळला तरी येळकोट आन

नाय उधळला तरी बी येळकोटच…!

--------------------

ताज महल अगर प्रेम की निशानी है,

तो शिवनेरी किला एक शेर की कहानी है

छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती की शुभकामनाएं

-------------------------

जो व्यक्ति स्वराज्य और परिवार के बीच स्वराज्य को चुनता है वही एक सच्चा नागरिक होता है।- छत्रपति शिवाजी महाराज

जब लक्ष्य जीत का हो, तो हासिल करने के लिए कितना भी परिश्रम, कोई भी मूल्य क्यों न हो उसे चुकाना ही पड़ता है।

Shiv Jayanti 2020 शुभेच्छा

----------------------------

शिवराय सांगायला सोपे आहेत,

शिवराय ऐकायला सोपे आहेत,

शिवरायांचा जयघोष करणे सुद्धा सोपे आहे,

पण शिवराय अंगीकारणे खुप कठीण आहे..

आणि जो शिवरायांना स्वतःच्या आचरणात आणेल,

तो या जगावर राज्य करेल एवढं मात्र नक्की!!

जय शिवराय! जय जिजाऊ!

--------------------

छ :- छत्तीस हत्तीचे बळ असणारे,

त्र :- त्रस्त मोगलांना करणारे,

प :- परत न फिरणारे,

ति :- तिन्ही जगात जाणणारे,

शि :- शिस्तप्रिय,

वा :- वाणिज तेज,

जी :- जीजाऊचे पुत्र,

म :- महाराष्ट्राची शान,

हा :- हार न मानणारे,

रा :- राज्याचे हितचिंतक,

ज :- जनतेचा राजा

-------------------------

शिव जयंतीच्या सर्व हिन्दू मावळयाना

खुप खुप शुभेच्छा

जय भवानी जय शिवाजी

-----------------------

अखंड हिंदुस्थान चे आराध्य दैवत व स्फूर्ती स्थान

श्रीमंत छत्रपती शिवाजी राजे महाराजांना

त्रिवार मानाचा मुजरा.

सर्व शिवभक्ताना शिवजयंतीच्या शिवमय शुभेच्या

Posted By: Ajay Kumar Barve