SOVA Virus Alert। यदि आप भी पैसों के लेन-देन के लिए मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करते हैं तो अलर्ट हो जाएं क्योंकि इन दिनों एक ट्रोजन वायरस मोबाइल में सीधे बैंकिंग ऐप को ही अपना निशाना बना रहा है। केंद्रीय सायरब एजेंसी ने इस संबंध में अलर्ट जारी किया है और जानकारी दी है कि ‘सोवा वायरस’ मोबाइल में बैंकिंग ऐप को हैक कर रहा है। SOVA Virus के जरिए कोई भी आपके एंड्रॉइड फोन को एन्क्रिप्ट करके फिरौती, जबरन वसूली आदि के लिए इस्तेमाल कर सकता है। एजेंसी ने बताया है कि इस वायरस को मोबाइल से अनइंस्टॉल करना भी मुश्किल है।

केंद्रीय साइबर एजेंसी ने जारी की एडवाइजरी

केंद्रीय साइबर सुरक्षा एजेंसी CERT-IN ने SOVA Virus को लेकर एक एडवाइजरी जारी की है। SOVA Virus के बारे में पहली बार भारतीय साइबर स्पेस में CERT-In द्वारा जुलाई में पता लगाया गया था। तब से लेकर अब तक SOVA Virus के 5 वर्जन अपग्रेड हो चुके हैं और यह लॉगिन के माध्यम से उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड प्राप्त करता है। साथ ही कुकीज तोड़कर और कई तरह के ऐप्स का झूठा वेब बुनकर यूजर्स के बारे में जानकारी हासिल करता है और धोखाधड़ी का शिकार बनाता है।

अमेरिका, रूस और स्पेन में भी साइबर हमले

गौरतलब है कि भारत से पहले SOVA Virus अमेरिका, रूस और स्पेन में भी सक्रिय रहा है। CERT-IN के मुताबिक अब तक करीब 200 मोबाइल यूजर्स इस वायरस का शिकार हो चुके हैं।

मोबाइल यूजर्स को ऐसे बनाते हैं निशाना

केंद्रीय साइबर एजेंसी ने अपनी एडवाइजरी में जानकारी दी है कि SOVA Virus का लेटेस्ट वर्जन फर्जी एंड्रॉयड ऐप में छिपकर मोबाइल यूजर्स के अकाउंट में घुस जाता है। इन ऐप्स में क्रोम, अमेज़ॅन, NFT जैसे लोकप्रिय ऐप्स का लोगो है, जिससे यूजर्स गुमराह हो जाते हैं। उन्हें इन ऐप्स को डाउनलोड करने के लिए मजबूर किया जाता है और बाद में मोबाइल से डेटा चुरा लिया जाता है। एक बार मोबाइल हैक होने के बाद डेटा चुराना आसान हो जाता है। फेक एंड्राइड ऐप डाउनलोड हो जाने के बाद SOVA Virus मोबाइल के सभी ऐप की जानकारी C2 (कमांड एंड कंट्रोल) सर्वर को भेज देता है। जहां सिटिंग मास्टरमाइंड टारगेट किए जाने वाले ऐप्स की लिस्ट तैयार करता है। यह सूची C2 द्वारा वापस सोवा वायरस को भेजी जाती है। यह सारी जानकारी को XML फाइल के रूप में सेव करता है।

सिर्फ आधिकारिक प्ले स्टोर से ही ऐप डाउनलोड करें

केंद्रीय साइबर एजेंसी ने अपनी एडवाइजरी में कहा है कि इस वायरस से बचने के लिए यूजर्स को सिर्फ ऑफिशियल ऐप स्टोर से ही ऐप डाउनलोड करना चाहिए। किसी भी ऐप को डाउनलोड करने से पहले उसकी पूरी जानकारी और उसे कितनी बार डाउनलोड किया गया, कृपया उस पर लोगों के रिव्यू और कमेंट जरूर देख लेना चाहिए।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close