कोरोना वायरस महामारी ने एक "अभूतपूर्व शिक्षा आपातकाल" पैदा कर दिया है। इस संक्रमण की वजह से स्कूल बंद कर दिए गए थे। ब्रिटिश चैरेटी संस्था- 'सेव द चिल्ड्रन' ने सोमवार को चेतावनी दी है कि इस महामारी की वजह से 97 लाख बच्चों के कक्षा में वापस नहीं जाने का खतरा है। ब्रिटिश चैरिटी ने यूनेस्को के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि अप्रैल में COVID-19 को देखते हुए अपनाए गए सुरक्षा कदमों के चलते 1.6 अरब छात्रों को स्कूल और विश्वविद्यालय से बाहर कर दिया गया था, जो दुनिया की पूरी छात्र आबादी का लगभग 90 प्रतिशत है।

मानव इतिहास में पहली बार, वैश्विक स्तर पर बच्चों की एक पूरी पीढ़ी ने अपनी शिक्षा बाधित कर दी है। सेव अवर एजुकेशन नाम की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। इसमें कहा गया है कि संकट की वजह से हुए आर्थिक पतन ने 9 करोड़ से 11.7 करोड़ बच्चों को गरीबी में डाल दिया, जिससे स्कूल में प्रवेश पर असर पड़ा। कई युवाओं को काम करने की आवश्यकता होती है या लड़कियां अपने परिवारों का समर्थन करने के लिए जल्दी शादी करने के लिए मजबूर होंगी।

लिहाजा, कोरोना वायरस संक्रमण 70 लाख से लेकर 97 लाख बच्चों के स्थायी रूप से स्कूल छोड़ने के कारण बन सकता है। चैरिटी ने चेतावनी दी कि साल 2021 के अंत तक कम और मध्यम आय वाले देशों में शिक्षा बजट में 77 अरब डॉलर की कमी आ सकती है। सेव द चिल्ड्रेन के चीफ एक्जीक्यूटिव इंगर अशिंग ने कहा- लगभग एक करोड़ बच्चे कभी भी स्कूल नहीं लौट सकते हैं। यह एक अभूतपूर्व शिक्षा आपातकाल है और सरकारों को तत्काल शिक्षा व्यवस्था में निवेश करना चाहिए।

इसके बजाय हम अनियंत्रित बजट कटौती के जोखिम में हैं जो अमीर और गरीब के बीच व लड़कों और लड़कियों के बीच मौजूद असमानता को देखेंगे। चैरिटी ने सरकारों और दाताओं से बच्चों को स्कूल में वापस आने के लिए एक नई वैश्विक शिक्षा योजना के लिए और अधिक धन का निवेश करने का आग्रह किया। हम जानते हैं कि सबसे गरीब, सबसे ज्यादा हाशिए पर रहने वाले बच्चे जो पहले से ही सबसे पिछड़े थे, उन्हें सबसे बड़ा नुकसान हुआ है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan