अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के काफिले पर राजधानी काबुल में भीषण बम हमला हुआ। सालेह बाल-बाल बच गए, लेकिन 10 लोगों के मारे जाने की खबर है। सालेह के कुछ सुरक्षाकर्मियों समेत कम से कम 31 लोग घायल हुए हैं। अभी तक किसी ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। भारत ने इस हमले की भर्त्सना की है। आंतरिक सुरक्षा मंत्रालय के मुताबिक, देश के पहले उपराष्ट्रपति सालेह का काफिला बुधवार सुबह घरेलू गैस सिलेंडर की दुकानों वाले रास्ते से गुजर रहा था। तभी सड़क किनारे भीषण धमाका हुआ। यह इतना भयानक था कि गाड़ियों के परखच्चे उड़ गए और दुकानों में आग लग गई। आसपास की इमारतों को भी भारी नुकसान पहुंचा। थोड़ी ही देर में अफगान सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया और तलाशी अभियान शुरू कर दिया। देश के पूर्व खुफिया प्रमुख सालेह हमले के कुछ समय बाद टेलीविजन पर दिखे। उनके एक हाथ में पट्टी बंधी हुई थी। उन्होंने कहा कि वह मामूली रूप से झुलस गए हैं, लेकिन ठीक हैं। उनका बेटा भी सुरक्षित है।

सालेह के प्रवक्ता रजवान मुराद ने कहा कि उपराष्ट्रपति को जान से मारने के लिए घात लगाकर आतंकी हमला किया गया, लेकिन देश के दुश्मन नाकाम रहे। सालेह पर पिछले साल भी हमला हुआ था, जिसमें 20 लोग मारे गए थे। हमले के तुरंत बाद तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि इस वारदात से हमारा कोई लेना-देना नहीं है।

यह हमला ऐसे समय में हुआ है, जब तालिबान और अफगान सरकार कतर में शांति वार्ता आयोजित करने की तैयारियों में जुटे हुए हैं। भारत ने इस कायराना आतंकी हमले की कड़ी निंदा की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने ट्वीट में कहा कि देश में स्थायी शांति के लिए आतंकी ढांचे और इसके प्रायोजकों के खिलाफ अफगानिस्तान की लड़ाई में भारत उसके साथ है। पाकिस्तान ने भी इस हमले की निंदा की है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020