Al-Zawahiri Killed: आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए अमेरिका ने अलकायका सरगना और आतंकियों के सबसे बड़े आका अल-जवाहिरी (Al-Zawahiri) को मार गिराया है। अमेरिका ने अफगानिस्तान के काबुल स्थित अपने घर की बालकनी में खड़े Al-Zawahiri पर ड्रोन से हमला किया और मार गिराया। हमले में किसी नागरिक की मौत नहीं हुई है। घर को कुछ नुकसान पहुंचा है। हमले के वक्त Al-Zawahiri के परिवार भी घर में मौजूद था। ओसामा बिन लादेन के खात्मे के लिए अमेरिकी कमांडो को पाकिस्तान की जमीं पर उतरना पड़ा था, लेकिन Al-Zawahiri के मामले में अलग रणनीति पर काम किया गया। ड्रोन से दो मिसाइलें दागी गईं और अलकायदा सरगना का काम तमाम कर दिया गया।

यह आदत बनी अल-जवाहिरी की मौत का कारण

अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने लंबे समय तक अल-जवाहिरी पर नजर रखी। सीआईए के अधिकारियों ने पाया कि अल-जवाहिरी को रोज सुबह बालकनी में बैठकर एकांत में कुछ पढ़ने की आदत थी। इसी समय उसकी हत्या की प्लानिंग बनी और 25 जुलाई को व्हाइट हाउस से अनुमति मिलने के बाद 31 जुलाई को काम तमाम कर दिया गया।

ड्रोन से दागी दो R9X हैलफायर, नहीं हुई कोई विस्फोट और अल जवाहिरी ढेर

31 जुलाई को वह कुछ पलों के लिए बालकनी में आया और अमेरिकी सेना ने दो R9X हैलफायर से हमला कर दिया। R9X हैलफायर मिसाइल अत्यधिक सटीकता के साथ लक्ष्य को मारने के लिए विस्फोटकों के बजाय ब्लेड का उपयोग करती है। यानी इस मिसाइल अटैक में किसी विस्फोटक का इस्तेमाल नहीं किया गया। यह मिसाइल श्रीकृष्ण के सुदर्शन चक्र की तरह है।

Bladed and incredibly precise: All about US's secret 'Hellfire' missile  used in Afghanistan airstrikes against ISIS-K - World News

अमेरिकी राष्ट्रपति ने किया Al-Zawahiri के मारे जाने का ऐलान

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने मीडिया को संबोधित किया और Al-Zawahiri के खिलाफ मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम दिए जाने का ऐलान किया। वहीं अमेरिकी अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बोलते हुए कहा कि रविवार को सुबह 6:18 बजे (0148 GMT) अफगान राजधानी काबुल में अमेरिकी ड्रोन हमले के बाद जवाहिरी की मौत हो गई।

2011 में अलकायदा के संस्थापक ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद से आतंकवादी समूह को यह सबसे बड़ा झटका लगा है। Al-Zawahiri मूल रूप से मिस्र का रहने वाला था और पेशे से सर्जन था। आतंकियों का आका बनने के बाद उसके सिर पर $25 मिलियन का इनाम रखा गया। Al-Zawahiri ने 11 सितंबर 2001 के हमलों में अहम भूमिका निभाई थी, जिसमें लगभग 3,000 लोग मारे गए थे।

Image

Posted By:

  • Font Size
  • Close