वॉशिंगटन America President Election। अमेरिका में चुनावी जंग तेज हो गई है और भारतीय वोटरों को लुभाने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम का भी सहारा ले रहे हैं। अब चुनाव की तैयारियों में जुटे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना टेस्टिंग को लेकर किए गए उनके शानदार काम की तारीफ की है। वहीं स्वाइन फ्लू को रोकने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए ट्रंप ने अपने प्रतिद्वंद्वी और डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन पर निशाना साधा है।

तेजी से बढ़ रहा कोरोना संक्रणण

गौरतलब है कि दुनियाभर में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ा रहा है। अब तक सबसे ज्यादा संक्रमण के मामले अमेरिका में सामने आए हैं जबकि भारत दूसरे स्थान पर है। टेस्टिंग के मामले में भारत सिर्फ अमेरिका से पीछे है। ट्रंप ने नेवादा के रेनो शहर में आयोजित एक चुनावी रैली में कहा, "अब तक हमने भारत की तुलना में ज्यादा लोगों के कोरोना टेस्ट किए हैं। टेस्टिंग के मामले में अमेरिका के बाद भारत दूसरे पायदान पर है। हमने भारत से 4.4 करोड़ टेस्ट अधिक किए हैं। भारत की आबादी डेढ़ अरब है। पीएम मोदी ने फोन किया और कहा कि टेस्टिंग को लेकर आपने क्या शानदार काम किया है।"

डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी मीडिया पर भी साधा निशाना

ट्रंप ने मीडिया की तरफ इशारा करते हुए कहा कि इन बेईमान लोगों को मोदी की टिप्पणी को समझाने की जरूरत है। ये लोग कोरोना महामारी से निपटने के तरीके को लेकर मेरी आलोचना कर रहे हैं, लेकिन बिडेन का रिकॉर्ड बताता है कि अगर वह प्रभारी होते तो चीन का वायरस हमला करता तो लाखों और लोग मारे जाते। उपराष्ट्रपति के रहते हुए मंदी के दौरान उन्होंने कैसा काम किया है, यह सबने देखा है। राष्ट्रपति ने कहा कि बिडेन के चलते सबसे अधिक नुकसान नेवादा को हुआ और मुझे लगता है कि आप इस तरह का नेता कभी नहीं चाहेंगे। दरअसल कांटे की लड़ाई वाले प्रांतों में ट्रंप ज्यादा फोकस कर रहे हैं। यह बात ठीक है कि नेवादा कभी भी रिपब्लिकन पार्टी का गढ़ नहीं रहा है, लेकिन यहां पर पार्टी को ठीक-ठाक वोट मिलता रहा है।

डोनाल्ड ट्रंप का दावा, जो बिडेन जीते तो चीन जीत जाएगा

ट्रंप ने कहा कि पिछले चार सालों के दौरान वे ना केवल नौकरियों को वापस लाने में सफल हुए हैं बल्कि सीमाओं को सुरक्षित करने में भी कामयाबी हासिल की है। जहां तक चीन की बात है तो जैसी चुनौती मैंने उनके सामने पेश की है वैसी किसी ने नहीं की। यदि बिडेन जीतते हैं तो उन्हें वामपंथी नियंत्रित करेंगे। अगर बिडेन जीतते हैं तो चीन जीत जाएगा, अगर वह जीतते हैं तो हिंसक वामपंथी भीड़ जीत जाएगी, अगर पूर्व उपराष्ट्रपति जीतते हैं तो अमेरिका का झंडा जलाने वाले अराजकतावादी जीत जाएंगे। ट्रंप ने कहा कि अगर वह चुनाव हारते हैं तो इसके पीछे की मुख्य वजह धांधली होगी। उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के इतिहास में बिडेन से खराब उम्मीदवार आज तक नहीं दिखाई पड़ा।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020