वॉशिंगटन। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका दौरे की तैयारी कर रहे हैं। इससे पहले ही अमेरिका ने पाकिस्तान का आइना दिखाया है। ट्रंप प्रशास ने पाकिस्तान से दो टूक शब्दों में कहा कि हासिफ सईद जैसे आतंकियों के आकाओं के खिलाफ कार्रवाई का वह सिर्फ दिखावा न करे, बल्कि यह सुनिश्चित करे कि इस तरह की कार्रवाई निरंतर होती रहे।

बता दें, इमरान खान अमेरिका जाने वाले हैं और सोमवार को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से उनकी मुलाकात होना है। ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'प्रधानमंत्री इमरान खान को व्हाइट हाउस बुलाकर अमेरिका यह संदेश देना चाहता है कि आतंकवाद को लेकर अगर पाकिस्तान अपनी नीति में बदलाव करता है तो संबंधों को दुरुस्त करने के लिए दरवाजे खुले हैं।'

व्हाइट हाउस में ट्रंप से इमरान की पहली मुलाकात होगी। ट्रंप प्रशासन उनका गर्मजोशी से स्वागत करने की तैयारी में है। वह ट्रंप और उनके कैबिनेट के कई सदस्यों के साथ राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस में लंच भी करेंगे। हालांकि ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने यह साफ कर दिया है कि जब तक यह नहीं दिखता कि पाकिस्तान आतंकवाद और आतंकी संगठनों के खिलाफ ठोस और सतत कार्रवाई कर रहा है, तब तक अमेरिका से उसे मिलने वाली सैन्य सहायता रुकी रहेगी।

एक अधिकारी ने कहा, 'जैसा कि आप जानते हैं कि हमने जनवरी 2018 में पाकिस्तान की सुरक्षा मदद रोक दी थी। अभी भी इस नीति में कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है। हम सिर्फ दिखावा नहीं, बल्कि सतत कार्रवाई देखना चाह रहे हैं। हम स्थिति पर नजर रख रहे हैं। हम यह देखेंगे कि क्या पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदम स्थिर और सतत हैं या नहीं। '

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close