वॉशिंगटन। एपल ने अपने ऐप स्टोर से विवादास्पद पुलिस ट्रैकिंग ऐप को हटा दिया है। हांग कांग में प्रदर्शनकारियों ने इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया और इसके जरिये वे पुलिस की गतिविधियों पर नजर रख रहे थे। कंपनी ने कहा कि यह ऐप उसके नियमों का उल्लंघन करते हैं क्योंकि इसका इस्तेमाल कर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की लोकेशन का पता लगाकर उन पर हमला करने के लिए किया। इसके साथ ही अपराधियों ने उन जगहों के लोगों को निशाना बनाया, जहां कानून का प्रवर्तन करने वाले अधिकारी मौजूद नहीं थे।

बताते चलें कि एपल ने क्राउड सोर्सिंग ऐप HKmap.live को इस महीने की शुरुआत में खारिज कर दिया था, लेकिन पिछले हफ्ते उसे बदल दिया, जिसकी वजह से यह ऐप स्टोर में दिख रहा था। इसके बाद चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के आधिकारिक समाचार-पत्र पीपल्स डेली में कंपनी की नीति की तीखी आलोचना की गई थी। इसमें कहा गया था कि एपल ने एक 'जहरीले' ऐप को अपने ऐप स्टोर में जगह दी है।

एपल ने एक बयान में कहा कि हांग कांग में उसके कई परेशान ग्राहकों ने कंपनी से इस मैपिंग ऐप के बारे में संपर्क किया था। इसके बाद कंपनी ने इस ऐप के इस्तेमाल को लेकर जांच शुरू कर दी और पाया कि इसे उन कई तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता था, जिसकी वजह से कानून के लागू करने और हांग कांग के लोगों को खतरा हो सकता था।

बयान में कहा गया है कि ऐप में पुलिस की लोकेशन दिखती है और हमने हांग कांग साइबर सिक्योरिटी एंड टेक्नोलॉजी क्राइम ब्यूरो के साथ पुष्टि की है कि ऐप का इस्तेमाल पुलिस पर घात लगाकर हमला करने, लोगों की सुरक्षा पर खतरा पैदा करने के लिए गया था। इसके साथ ही अपराधियों ने इस ऐप का इस्तेमाल उन इलाके के लोगों को शिकार बनाने के लिए किया, जहां उन्हें पता था कि पुलिस मौजूद नहीं है।