न्यूयार्क। कश्मीर मुद्दे पर दुनिया में अलग-थलग पड़े पाकिस्तान ने अब अफगान कार्ड खेला है। पाकिस्तान ने अमेरिका की तरफ इशारा करते हुए कहा है कि उसके सैनिक अफगानिस्तान सीमा से हटकर कश्मीर की सीमा पर तैनात किए जा सकते हैं। पाकिस्तन ने यह धमकी ऐसा वक्त दी है जब अफगानिस्तान में शांति के लिए अमेरिका लगातार कोशिशें कर रहा है और उसकी तालिबान से बातचीत भी चल रही है। ऐसे में अमेरिका को इस मामले में पाकिस्तान का साथ चाहिए। पढ़िए इससे जुड़ी खास बातें -

  • यह बात अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत असद मजीद खान ने कही है। इस तरह पाकिस्तान अपनी सेना को वहां से हटाने का संकेत देकर अमेरिका पर दबाव बनाने की फिराक में है।
  • मजीद ने न्यूयार्क टाइम्स के संपादकीय बोर्ड के साथ एक विशेष इंटरव्यू में यह चेतावनी दी, लेकिन साथ ही कहा कि अफगानिस्तान और कश्मीर दो अलग-अलग मामले हैं और वह इन दोनों को आपस में जोड़ने की कोशिश नहीं कर रहे हैं। इसके उलट, पाकिस्तान चाहता है कि तालिबान के साथ अमेरिका की वार्ता सफल हो और वह इसके लिए प्रयास कर रहा है।
  • बकौल मजीद, पश्चिमी सीमा पर हम अपनी पूरी क्षमता लगा चुके हैं। अगर पूर्वी सीमा पर हालात बिगड़ते हैं तो हमें सेना की तैनाती पर (पश्चिमी सीमा से पूर्वी सीमा पर) विचार करना पड़ेगा। अभी हम इस्लामाबाद में ऐसा कुछ सोच नहीं रहे हैं, सिवाय इसके जो कुछ पूर्वी सीमा पर हो रहा है।
  • पाकिस्तानी राजदूत ने कहा कि भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के लिए इस समय से कोई और बुरा समय हमारे लिए नहीं हो सकता था। खान ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों में दोनों देशों के बीच बहुत कम संपर्क हुआ है और दुर्भाग्य से ऐसा लग रहा है कि हालात और बुरे होंगे। हालांकि, पूछे जाने पर उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि हालात किस रूप में और बुरे होंगे।