भारत में कोरोना की भयावह स्थिति पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की भी नजर है। WHO ने अपनी साप्ताहिक महामारी विज्ञान रिपोर्ट में कहा है कि पिछले हफ्ते दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के नये मामलों का 46 प्रतिशत भारत में दर्ज किया गया, जबकि इसकी वजह से हुई कुल मौतों में से 25 प्रतिशत यहीं दर्ज हुईं। यानी पिछले हफ्ते पूरी दुनिया के करीब आधे कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामले भारत (India) में दर्ज किए गए, जबकि एक चौथाई मौतें भी भारत में ही हुईं।

हमारे आंकड़ों के मुताबिक भी देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के चलते रिकॉर्ड 3,780 लोगों की मौत हुई और कोरोना वायरस संक्रमण के 3,82,315 नए मामले सामने आए। भारत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार को 3,38,439 लोग संक्रमण से ठीक भी हुए हैं। देश में अब तक संक्रमण के कुल 2,06,65,148 मामले आए हैं, जिसमें 1,69,51,731 लोग ठीक हो चुके हैं, जो संक्रमण के कुल मामलों का 82.03 फीसदी है। वहीं अब तक 2,26,188 लोगों ने कोविड-19 के कारण जान गंवाई है।

वैसे, अच्छी बात ये रही कि भारत में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण अभियान की शुरुआत से लेकर अब तक 16 करोड़ से अधिक खुराकें दी जा चुकी हैं। यह उपलब्धि हासिल करने में देश को 109 दिनों का समय लगा है। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक भारत की तुलना में अमेरिका ने यह काम करने में 111 दिन लिए जबकि चीन को 116 दिन लगे।

लगातार साढ़े तीन लाख से ज्यादा मामलों के आने से ये सवाल उठने लगा है कि देश हर्ड इम्यूनिटी की ओर बढ़ रहा है। हर्ड इम्यूनिटी यानी देश की आधी से अधिक आबादी में कोरोनावायरस के खिलाफ इंटीबॉडी का होना और इस तरह बीमारी के खिलाफ इम्यूनिटी डेवलप कर लेना। देश में फिलहाल कोविड का रिप्रोडक्टिव रेट 1.44 है। यानी एक मरीज से कम से कम डेढ़ लोगों में संक्रमण फैल रहा है। कई लोग इस इंतजार में भी हैं कि देर-सबेर सबको कोरोना हो जाएगा और फिर कोई बीमार नहीं पड़ेगा।

लेकिन विशेषज्ञों की राय इससे बिल्कुल अलग है। उनके मुताबिक भले ही देश के कई शहरों में किये गये सीरो सर्वे में काफी अधिक लोगों में एंडीबॉडी मिले हैं, लेकिन इससे हर्ड इम्यूनिटी डेवलप नहीं हो रही है। इसकी वजह ये है कि कोरोनावायरस में बहुत तेजी से बदलाव हो रहा है और कई नये स्ट्रेन सामने आ रहे हैं। इसी वजह से एक लहर के बाद दूसरी लहर शुरु हो गई है और अक्टूबर-नवंबर तक तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में लोगों को दूसरी-तीसरी बार भी संक्रमण हो रहा है। इसलिए फिलहाल कोई भी कोरोनावायरस से बिल्कुल इम्यून नहीं है।

Posted By: Shailendra Kumar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags