लंदन। बीते 10 दिनों से लापता 15 वर्षीय फ्रेंको-आयरिश किशोरी नोरा एनी क्योरिन का बुधवार सुबह शव का पोस्टमॉर्टम किया जाएगा। उसका निर्वस्त्र शव 10 दिनों की खोज के बाद मंगलवार को जंगल से बरामद किया गया था। परिवार ने उसकी मौत को अपूर्णीय नुकसान बताया। नोरा अपने परिवार के साथ क्वालालंपुर से दक्षिण में 70 किमी दूर स्थित रिसोर्ट से चार अगस्त को अचानक लापता हो गई थी। यहां वह अपने परिवार के साथ घूमने के लिए पहुंची थी। हालांकि, उसकी मौत का कारण अभी तक पता नहीं चल सका है।

रिजॉर्ट से करीब 2.5 किलोमीटर दूर एक नाले में नोरा का शव मिला था। उसे हेलीकॉप्टर ने घने जंगल से बाहर निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया था, जिसके बाद नोरा क्वोरिन के माता-पिता ने उसकी शिनाख्त की थी। मलेशिया के डिप्टी नेशनल पुलिस चीफ मजलान मंसूर ने बताया कि इस मामले की आपराधिक जांच शुरू कर दी गई है। हालांकि, शुरुआती जांच में किसी तरह के आपराधिक घटना होने की आशंका नहीं लग रही है।

नोरा के परिजनों ने बताया कि उसे लर्निंग डिसएबिलिटी थी। लिहाजा, वह कम ही बोल पाती थी। वह पहले भी परिवार के साथ कई एशियाई और यूरोपीय देशों में घूमने गई थी, लेकिन कभी भी परिवार से अलग नहीं हुई थी। वह सीखने और बात करने की क्लास भी जाती थी। वह अपने परिवार के साथ लंदन में रहती थी, लेकिन उसके पास आयरलैंड और फ्रांस की भी नागरिकता थी।

बच्ची की तलाश के लिए दुनियाभर से मदद की पेशकश हो रही थी। बेलफेस्ट की एक बिजनेस कंपनी ने उसका पता बताने वाले को 11,953 डॉलर इनाम देने की घोषणा की थी, ताकि उसे बचाया जा सके। पुलिस आधिकारिक रूप से इसे लापता व्यक्ति का केस मानकर चल रही है, लेकिन अन्य आशंकाओं को भी सिरे से खारिज नहीं किया है।

नोरा की तलाश के लिए 350 से अधिक लोगों की टीम घने जंगल में हेलीकॉप्टर, ड्रोन, स्निफर डॉग और गोताखोरों की मदद से तलाशी अभियान में लगी थी। मलेशिया के साथ ही आयरलैंड, लंदन और फ्रांस की पुलिस भी जांच में सहयोग दे रही थी।