रेसिंग तो कई बार की होगी आपने, लेकिन आज हम आपको जिस रेसिंग के बारे में बताने जा रहे हैं उसके बारे में शायद ही आपने सुना होगा। यह है बोर्ड रेरिंग, जिसमें एक लकड़ी के लंबे तख्ते पर तीन लोग जूते पहनकर दौड़ते हैं। यानी इस खेल में तीन-तीन लोगों की एक टीम होती है। आप चाहें, तो इसे अपने घर के आस-पास किसी बढ़ई की दुकान से भी बनवा सकते हैं, लेकिन हम आपको बता दें कि यह चीन के गुआंक्शी प्रांत का पारंपरिक खेल है।

इसके लिए एक अनूठा अनुशासन की जरूरत होती है, जिसमें तीन लोगों को एक ही "जूते" साझा करने होते हैं। लिहाजा, इस खेल में सही समन्वय और एकाग्रता की जरूरत होती है। मिंग राजवंश के समय से बोर्ड शू रेसिंग का खेल चल रहा है, जब किंवदंती है कि जुआंग लोगों की एक प्रसिद्ध नायिका ने जापानी समुद्री डाकुओं के खिलाफ सैनिकों को प्रशिक्षित करने के तरीके के रूप में इसका इस्तेमाल किया था।

प्रसिद्ध वा ने लकड़ी के लंबे टुकड़ों का इस्तेमाल किया, ताकि पुरुषों को सही तरीके से सिंक्रोनाइजेशन में एक साथ मार्च करने के लिए सिखाया जा सके। कहा जाता है कि इसकी वजह से उनके लड़ाकू गुणों में काफी सुधार हुआ और उनकी लड़ाई की भावना को बढ़ाया, जिससे उन्होंने आक्रमणकारियों को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया। तब से यह पारंपरिक खेल पीढ़ी-दर-पीढ़ी चला आ रहा है।

जानते हैं इस खेल के बारे में

इस विचित्र खेल में जूते की एक ही जोड़ी पर चलने वाले तीन खिलाड़ी शामिल होते हैं। वे पैरों को जकड़ने के लिए लकड़ी के दो बोर्ड और छह चमड़े की पट्टियों से मिलकर बने एक जूते को पहनते हैं। बोर्ड एक मीटर लंबे, 9 सेमी-चौड़े और 3 सेमी-मोटे होते हैं, और उन्हें तीन सदस्यीय टीम के लिए जूते के रूप में उपयोग करने के लिए खास समन्वय और ध्यान की जरूरत होती है। यदि तीनों में से कोई भी एक बहुत अधिक तेज धक्का दे दे या धीमा हो जाए, तो पूरी तिकड़ी एक-दूसरे के ऊपर गिरा सकती है।

साल 2005 में राष्ट्रीय नागरिक मामलों के आयोग ने वार्षिक राष्ट्रीय अल्पसंख्यक पारंपरिक खेल खेलों में एक आधिकारिक कार्यक्रम के रूप में बोर्ड शू रेसिंग प्रोजेक्ट को मंजूरी दी। इस खेल को यह पुरुष और महिला, दोनों ही खेलते हैं। हेनान बोर्ड शू रेसिंग टीम के मुख्य कोच लियू जियानक्सिन ने बताया कि बोर्ड शू रेसिंग सच्चा टीम स्पोर्ट है। शारीरिक फिटनेस और गति प्रशिक्षण में सुधार के अलावा, यह टीम के सदस्यों के मौन सहयोग को बढ़ाने पर अधिक जोर देता है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना