देश में इन दिनों कोरोना का संक्रमण फिर से फैल रहा है। बढ़ते नए मामलों के बीच एक और चिंताजनकर खबर सामने आई है। इसके अनुसार ओमिक्रोन का नया वैरियंट भारत में मिला है। यह कितना घातक है, इस पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। भारत में कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वैरिएंट के एक नए सबवैरिएंट बीए.2.75 के मामले पाए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने यह बात कही है। डब्ल्यूएचओ की ही एक प्रमुख विज्ञानी ने कहा कि इससे गंभीर संक्रमण के साक्ष्य नहीं मिले हैं। दो दिन पहले भारत में सरकारी सूत्रों ने भी इस सबवैरिएंट के मामले पाए जाने की बात कही थी।

इसके बारे में अभी बहुत ज्यादा जानकारी नहीं

डब्ल्यूएचओ की मुख्य विज्ञानी सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि बीए.2.75 सबवैरिएंट सबसे पहले भारत में पाया गया था, उसके बाद करीब 10 अन्य देशों में भी इसके मामले मिले हैं। उन्होंने कहा कि इसके बारे में अभी बहुत ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। अब तक उपलब्ध जानकारी के आधार पर लगता है कि यह गंभीर संक्रमण नहीं कर रहा है। इसमें म्युटेशन भी हुए हैं। इससे इसके बारे में अभी कुछ भी कहना बहुत जल्दबाजी होगी। डब्ल्यूएचओ के कोरोना पर इंसीडेंट मैनेजर आब्दी महमूद ने कहा कि अभी महामारी के खत्म होने की घोषणा करने का समय नहीं आया है। महामारी खत्म नहीं हुई है। इसके कई वैरिएंट सक्रिय हैं। लोगों को सतर्क रहने, मास्क पहनने और भीड़ में जाने से बचने की जरूरत है।

अन्य कई देशों में भी इस सबवैरिएंट के केस

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अढानम घेब्रेयेसस ने यह भी कहा है कि भारत के अलावा अन्य कई देशों में भी इस सबवैरिएंट के केस पाए गए हैं। डब्ल्यूएचओ स्थिति पर नजर रखे हुए है। प्रेस ब्रीफिंग के दौरान घेब्रेयेसस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ के छह में से चार उप क्षेत्रों में कोरोना के नए मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है। पिछले दो हफ्ते में पूरे विश्व में कोरोना के 30 प्रतिशत मामले बढ़े हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close