China Lockdown 2022: इन दिनों चीन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। ना जनता के लिए, ना सरकार के लिए। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते लॉकडाउन लगा हुआ है और ऐसे में वहां अब इसका विरोध भी शुरू हो गया है। यह विरोध बढ़कर जनता व सरकार के बीच संघर्ष का रूप ले चुका है। चीन में रविवार को कोविड के लगभग 40 हजार नए मामले दर्ज किए गए।

चीन सरकार की जीरो कोविड पालिसी की वजह से कई शहरों में लगे लाकडाउन के चलते लोग सड़कों पर उतर आए हैं और सख्त प्रतिबंधों का विरोध कर रहे हैं। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति शी चिनफिग और सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के विरुद्ध नारेबाजी कर रहे थे। उन्होंने "चिनफिग गद्दी छोड़ो", "कम्युनिस्ट पार्टी सत्ता छोड़ो" और "चीन को अनलाक करो"" के नारे लगाए।

कोविड प्रतिबंधों का यह विरोध बीजिग और नांजिग में विश्वविद्यालयों के कैंपस तक पहुंच गया है। शंघाई में हुए विरोध प्रदर्शनों के इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट किए कई वीडियो में लोगों को खुलेआम चिनफिग और कम्युनिस्ट पार्टी के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए सुना जा सकता है।

यह लगातार चौथा दिन है जब कोविड के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई। शनिवार रात शंघाई में जिस वुलुमुकी रोड पर हजारों प्रदर्शनकारी इकट्टा हुए थे, वहां भारी पुलिस बल की उपस्थिति के बावजूद रविवार को भी प्रदर्शन हुए। यहां सैकड़ों लोगों और पुलिस के बीच संघर्ष भी हो गया।

सोशल मीडिया पर पोस्ट वीडियो में पुलिस को शंघाई में प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करते हुए और आक्रोशित लोगों को उनकी गिरफ्तारी का विरोध करते हुए देखा जा सकता है। बीजिग, वुहान और चेंगदू शहरों में भी विरोध प्रदर्शन हुए। बीजिग में सैकड़ों की संख्या में लोग रिग रोड पर एकत्रित हो गए और वहां से हटने से इन्कार कर दिया।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close