वॉशिंगटन। चीन ने शुक्रवार को कहा कि उसका पूर्ण रूप से काम करने वाला नेविगेशन सैटेलाइट बेइडू (Beidou) प्रणाली वैश्विक सेवाएं प्रदान करने के लिए तैयार है। यह अमेरिका के जीपीएस, रूस के ग्लोनास और यूरोपीय संघ के गैलीलियो सहित स्पेस बेस्ड सिस्टम प्रदान करने वाले एक कुलीन समूह में शामिल हो गया है। विशेषज्ञों ने चीन के सरकारी मीडिया को बताया कि BeiDou-3 को इस लिये पूरा किया गया क्योंकि कोर प्रौद्योगिकियों को अन्य देशों से खरीदा या भीख में नहीं लिया जा सकता है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान और बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) के हिस्से के तहत 100 से अधिक देश पहले से ही बेइडू सिस्टम का इस्तेमाल कर रहे हैं। आधिकारिक मीडिया ने शुक्रवार को बताया कि 400 से अधिक घरेलू संस्थानों, विश्वविद्यालयों और उद्यमों के करीब तीन लाख से अधिक वैज्ञानिक, इंजीनियर और तकनीशियन से इस नेविगेशन सिस्टम को मिलकर विकसित किया है। आधिकारिक मीडिया ने शुक्रवार को राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा ग्रेट हॉल ऑफ पीपुल में आयोजित एक समारोह में इस प्रणाली के चालू होने की सूचना दी।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की सरकार ने फरवरी 1994 में विदेशी नेटवर्क (अमेरिका के GPS) पर देश की भारी निर्भरता को कम करने के उद्देश्य से एक अंतरिक्ष-आधारित नेविगेशन और पोजिशनिंग सिस्टम के अनुसंधान और विकास को मंजूरी दी थी।

बताया जा रहा है कि चीनी मुख्य भूमि में साल 2019 के अंत तक, 6.5 मिलियन से अधिक सड़क वाहन, 40,000 डाक और एक्सप्रेस डिलीवरी वाहन, 36 प्रमुख शहरों में 80,000 बसें, 3,200 अंतर्देशीय नेविगेशन सुविधाएं और 2,900 समुद्री नेविगेशन सुविधाओं ने Beidou को अपनाया था। इस तरह से यह सड़क वाहनों के लिए सबसे बड़ी गतिशील निगरानी प्रणाली बन गया।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020