बीजिंग। भारत सहित दुनिया के कई देशों में अभी 5जी सेवा शुरू ही नहीं हुई है और चीन ने एक कमद और आगे बढ़ाते हुए 6जी सर्विस पर काम करना शुरू भी कर दिया है। चीन ने पिछले हफ्ते ही राजधानी बीजिंग सहित देश के 50 से अधिक शहरों में 5जी सेवा की शुरुआत की थी। पहले ही दिन उसने 5जी के लाखों यूजर्स बनाकर एक रिकॉर्ड बना दिया था। बताया जा रहा है कि मोबाइल इंटरनेट के इस जनरेशन में 4जी के मुकाबले करीब 1000 गुना ज्यादा स्पीड मिल सकती है।

इस मील के पत्थर को हासिल करने के बाद अब चीन 6जी का बुनियादी ढांचा विकसित करने की दिशा में आगे बढ़ गया है। बीजिंग में 6जी की लॉन्च सेरेमनी की गई। चीन की सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए यूनिवर्सिटीज और विभिन्न संस्थानों के 37 एक्सपर्ट्स को काम पर लगाया है, जो अगली पीढ़ी के इंटरनेट कनेक्शन पर काम करना शुरू कर चुके हैं।

टेक्नोलॉजी ब्यूरो के उप मंत्री वांग शी ने सम्मेलन में कहा कि एक्सपर्ट्स के साथ 6जी के लिए एक स्पेसिफिक रिसर्च प्लान और शुरुआती शोध करने के लिए ब्यूरो को डिजाइन किया गया है। चीन की तीन सरकारी स्वामित्व वाली टेलिकम्युनिकेशन कंपनियों चाइना मोबाइल, चाइना यूनिकॉम और चाइना टेलीकॉम ने पिछले गुरुवार को अपने 5जी डेटा प्लान लॉन्च किए।

देश में नेटवर्क को सपोर्ट करने के लिए इस वर्ष के अंत तक एक लाख 30 हजार से अधिक 5जी बेस स्टेशनों को सक्रिय करना है। यह दुनिया का सबसे बड़ा सेट-अप होगा। चीनी इंजीनियरों ने पहले ही शंघाई के पास एक 5G स्मार्ट टाउन बनाया है, जहां निवासी 1.7GB प्रति सेकंड की जबरदस्त स्पीड से टीवी सीरीज, फिल्में या गेम डाउनलोड कर सकेंगे।

सुपर-फास्ट 5जी नेटवर्क सर्विस मौजूदा शंघाई हॉन्गकिओ रेलवे स्टेशन पर लगाया गया है, जो एशिया का सबसे व्यस्त ट्रैफिक हब है। यहां हर साल 6 करोड़ यात्री आते-जाते हैं। हुआवई के अनुसार, स्टेशन पर आने वाले यात्री 2जीबी की हाई-डेफिनिशन फिल्म को 20 सेकंड से भी कम समय में डाउनलोड कर सकेंगे।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai