बीजिंग। टारगेट पूरा नहीं कर पाने वाले कर्मचारियों को कंपनियां प्रोत्साहित करती हैं। कई बार उन्हें सजा भी देती हैं, जिसमें प्रमोश नहीं देना, या कमीशन कम देना, या छुट्टियां कैंसल कर देने जैसे उपाय किए जाते हैं। मगर, चीन में एक कंपनी ने तो हद ही पार कर दी। टारगेट पूरा नहीं कर पाने वाले दुकानदारों को कंपनी ने जिंदा मछली खाने के लिए मजबूर किया। इतना ही नहीं, उन्हें सजा के तौर पर मुर्गे का खून भी पिलाया गया।


मामला चीन के गुइझोउ प्रांत का है और इस घटना का वीडियो अब तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दुकान के मालिकों को जिंदा मछली खाने के लिए मजबूर किया गया था। वीडियो में देखा जा सकता है कि दुकान मालिकों को तालाब की मछलियां दी जाती हैं।

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार, उनमें से कई दुकानदारों ने जिंदा मछलियों को खाने की कोशिश की, लेकिन बाद में वे सड़कों पर उल्टी करने लगे। वीडियो में विवरण में दावा किया गया है कि यह टारगेट पूरा नहीं कर पाने की सजा थी। फिर भी दुकान के मालिकों ने इस सजा को स्वेच्छा से स्वीकार किया। वीडियो देखने के बाद लोग निराश हो गए और जिम्मेदार अधिकारियों को फटकार लगाई।

कई लोगों ने सोशल मीडिया में कमेंट किए। एक यूजर ने लिखा कि इसे खाना अच्छा नहीं है, उन कच्ची मछलियों से परजीवी उनके शरीर में पहुंच सकते हैं। वहीं, दूसरे यूजर ने कहा- बहुत सी अन्य चुनौतियां हैं, लेकिन उन्होंने इसका चयन किया, उनके मन में क्या चल रहा है।

एक टारगेट पूरा नहीं करने के लिए इस तरह से दंडित किया गया है, "बकवास"। कई लोगों ने इस घटना को पशु दुर्व्यवहार भी कहा। एक अन्य यूजर ने लिखा- दोस्तों, जब आपका स्टोर बिक्री लक्ष्य तक नहीं पहुंचता है, तो जिंदा मछली खाने से किसी भी समस्या का समाधान नहीं होता है। इसका मतलब सिर्फ दो शब्द हैं- पशु दुर्व्यवहार। मेरा मतलब है, आप अपने स्टोर को बंद क्यों नहीं करेंगे, या शायद अगली बार फिर से बेचने की कोशिश करें?

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना हुई थी। इससे पहले, एक चीनी कंपनी ने अपने अंडरपरफॉर्मिंग कर्मचारियों को सड़क पर घुटनों के बल चलने के लिए मजबूर किया था। इस घटना से मामला गंभीर रूप से उछल गया और कंपनी कुछ समय के लिए बंद हो गई थी।