Climate Change: पिछले 150 साल में पृथ्वी का तापमान जितनी बढ़ा है। उतना 24 हजार वर्षों में नहीं बढ़ा था। इस बात का खुलासा एक स्टडी में हुआ है। यह अध्ययन साइंस जर्नल नेचर में प्रकाशित हुआ है। स्टडी में बताया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण गर्मी बढ़ रही है। 150 सालों में बढ़ी इंडस्ट्री की वजह से ग्लोबल वॉर्मिंग बढ़ी है। जितनी 24 हजार साल में कभी वृद्धि नहीं हुई थी।

जलवायु परिवर्तन जिम्मेदार

इस अध्ययन में कहा गया कि धरती का तापमान पिछले दस हजार वर्ष में बढ़ना शुरू हुआ। ये प्राकृतिक तौर पर बढ़ रहा है। पिछले 150 सालों में जितनी तेजी से टेम्परेचर बढ़ा है। उसके पीछे जलवायु परिवर्तन को जिम्मेदार है। यूनिवर्सिटी ऑफ एरिजोना में जियोसाइंसेज के पोस्टडॉक्टोरल रिसर्चर मैथ्यू ओस्मान ने कहा, 'मनुष्यों ने जो कार्य प्रकृति के साथ किया। वह उसने खुद के साथ कभी नहीं किया।' उन्होंने कहा कि यह बड़ी चेतावनी है, जिसे लोग नहीं देख पा रहे हैं।

तापमान का मॉडल बनाया

साइंटिस्टों ने 24 हजार साल के तापमान का मॉडल बनाया है। उन्होंने दो तरीके के डेटाशीट बनाए। पहला समुद्री सेडिमेंट और दूसरा जलवायु के बदलाव का कंप्यूटर सिमुलेशन से। एसोसिएट प्रोफेसर जेसिका टायरनी ने कहा, अगर मौसम की भविष्यवाणी करनी है। तब ऐसे मॉडल तैयार करने होते हैं। इसके बाद फैक्टर्स के आधार पर तापमान को बढ़ता-घटता देख सकते हैं।

मॉडल के साथ एनालिसिस किया जाता है

प्रोफेसर जेसिका ने कहा कि फैक्टर्स को मॉडल के साथ एनालिसिस किया जाता है। तब पिछले और आगे के मौसम की जानकारी मिलती है। जिस तरह से वैश्विक स्तर पर गर्मी बढ़ रही है। वैसा कभी नहीं देखा गया। वैज्ञानिकों ने आपातकालीन स्थिति की चिंता की हैं। यूनाइटेड नेशंस क्लाइमेंट चेंज कॉन्फ्रेंस में कई देशों ने कहा कि जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए ठोस कदम उठाएंगे।

Posted By: Sandeep Chourey