Climate Summit 2022 । पर्यावरण सम्मेलन में हिस्सा लेने दुनिया के कई देशों के मंत्री मिस्र पहुंचे हुए हैं, लेकिन यहां पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो अपने एक अजीब मांग के कारण चर्चा में आ गए हैं। दरअसल पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी ने दुनिया के देशों से पाकिस्तान में आई बाढ़ के लिए मुआवजा देने की मांग की है। बिलावल भुट्टो ने कहा है कि देश में अतिवृष्टि और उसके बाद बाढ़ पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों के कारण आई। भुट्टो ने कहा कि बाढ़ के चलते पाकिस्तान को 40 अरब डॉलर से ज्यादा संपत्ति का नुकसान हुआ और हजारों लोगों की जान गई। ऐसे में पाकिस्तान को संपन्न देशों की ओर से मुआवजा मिलना चाहिए।

नुकसान से उबरने की नई अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था बने

बिलावल भुट्टो ने कहा कि विकासशील देशों को प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान से उबरने के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था बनाई जानी चाहिए। इस बीच चीन के पर्यावरण संबंधी मामलों के दूत शी झेन हुआ ने गरीब देशों को पर्यावरण सुधार के लिए आर्थिक और तकनीकी सहायता देने के पहल की।

पर्यावरण बिगाड़ रही है कुछ कंपनियां

पर्यावरण सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने ग्रीनवाशिंग को कतई बर्दाश्त न किए जाने का आह्वान किया। आपको बता दें कि ग्रीनवाशिंग शब्द का इस्तेमाल कंपनियों की ऐसी हरकत के लिए किया जाता है, जो पर्यावरण को भारी हानि पहुंचा रही है और बदले में पर्यावरण सुधार के लिए बड़े बड़े दावे तो करते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही होती है।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close