Coronavirus का असर अब लोगों के स्वास्थ्य पर ही नहीं, बल्कि व्यावसायिक गतिविधियों पर भी पड़ रहा है। सिंगापुर और हांगकांग में काम करने वाली घरेलू और विदेशी कंपनियों ने भर्तियां करना बंद कर दिया है। लोगों को जॉब के ऑफर्स नहीं दिए जा रहे हैं क्योंकि कोरोनोवायरस का प्रकोप उनके कारोबार को बाधित हो रहा है। चीन से आने-जाने की पाबंदियों, दूरदराज के कामकाज की व्यवस्था और आमने-सामने के साक्षात्कार न करने के फैसले से कंपनियों के काम-काज प्रभावित हुए हैं।

इस वायरस के फैलने की वजह से कारखाने बंद हो गए हैं, आपूर्ति श्रृंखला बाधित हो गई है और दुनिया में पहली बार सबसे बड़े पैमाने पर वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) प्रयोग की पहल हो रही है। भर्ती प्राथमिकता कम हो गई है क्योंकि डीबीएस ग्रुप होल्डिंग्स लिमिटेड सहित कंपनियों ने व्यापार की स्थिति बिगड़ने से राजस्व के प्रभावित होने की बात कही है।

सिंगापुर में मॉर्गन मैककिनले ग्रुप लिमिटेड के प्रबंध निदेशक गुरज संधू ने कहा कि हर कोई विचलित है। ब्लूमबर्ग ने छह रिक्रूटमेंट फर्म्स से बात की, जिनमें से सभी ने मंदी की पुष्टि की। लॉजिकल प्रॉब्लम की वजह से ज्यादातर कंपनियों में हायरिंग प्रॉसेस और रिलोकेशन प्लान में ज्यादा समय लग रहा है। सेलबी जेनिंग्स लिमिटेड के हांगकांग स्थित सलाहकार बेथन हॉवेल ने कहा कि कंपनियां जब तक कि महत्वपूर्ण नहीं हो, अंतरराष्ट्रीय यात्रा को जोखिम नहीं उठा रही हैं। ग्राहकों के साथ मीटिंग्स नहीं हो रही हैं।

कुछ वित्तीय फर्म वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग या फोन पर साक्षात्कार आयोजित कर रही हैं, लेकिन डील को क्लोज करने में ज्यादा परेशानी हो रही है, खासकर निवेश बैंकों और वेल्थ मैनेजमेंट यूनिट्स के लिए। निजी बैंकों और निवेश बैंकों हायरिंग की प्रक्रिया को तब तक रोक रही हैं, जब तक वे व्यक्तिगत रूप से उम्मीदवारों से मिल नहीं सकते, भले ही उन्होंने पिछले साल अच्छा प्रदर्शन किया हो।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai