बीजिंग। कोविड-19 महामारी को लेकर चीन और अमेरिका के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। चीन ने स्पष्ट कहा है कि वह इस मामले में किसी मुकदमे को या हर्जाने की मांग को नहीं मानेगा। महामारी के लिए चीन को दोषी ठहराने को लेकर अमेरिका में कोई विधेयक पास होने की स्थिति में चीन ने इसके खिलाफ जवाबी कदम उठाने की चेतावनी भी दी है।

अमेरिका शुरुआत से ही कोरोना महामारी के लिए चीन को जिम्मेदार मान रहा है। अमेरिका इसे वुहान में पैदा हुआ वायरस मानता है। इस मामले में चीन से हर्जाने की मांग के साथ अमेरिका में मुकदमा भी किया गया है। चीन को जिम्मेदार ठहराते हुए अमेरिकी राजनेता विधेयक भी लाने की तैयारी में हैं। इस संबंध में चीन की संसद के प्रवक्ता झांग येसुई ने कहा कि इस तरह के सभी आरोप बेबुनियाद हैं और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के खिलाफ हैं।

उन्होंने कहा, "हम उनके हर कदम का सख्ती से विरोध करेंगे और देखेंगे कि विधेयक पर वहां आगे क्या होता है। जरूरत के हिसाब से जवाबी कदम उठाएंगे।" वायरस वुहान में पैदा होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हालिया रिपोर्टों में सामने आया है कि कोरोना वायरस पहले दुनिया के कुछ अन्य हिस्सों में देखा गया था।

उन्होंने कहा कि अपनी परेशानियों से ध्यान भटकाने के लिए किसी और पर दोष लगाना सही नहीं है। चीन ने इस बीमारी पर नियंत्रण के लिए कड़ा युद्ध लड़ा है और बहुत कुर्बानी दी है। झांग ने जोर देकर कहा कि चीन ने पारदर्शिता के साथ काम किया और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और कई देशों को समय-समय पर इससे जुड़ी जरूरी जानकारियां मुहैया कराईं।

Posted By: Ajay Kumar Barve

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना