वॉशिंगटन। देशभर में कोरोना वायरस मामलों में हो रही जबरदस्त वृद्धि को देखते हुए अमेरिका के विभिन्न राज्यों में लॉक-डाउन कर दिया गया है। कैलिफोर्निया के गवर्नर गेविन न्यूजोम ने राज्य के सभी काउंटी रेस्तरां, बार और म्यूजियम को बंद करने का आदेश दिया है, क्योंकि कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस बीच, लॉस एंजिल्स और सैन डिएगो स्कूल डिस्ट्रिक्ट्स ने घोषणा की है कि वह सिर्फ ऑनलाइन क्लासेस को शुरू करेगा।

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी का डाटा बताता है कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के 1.3 करोड़ मामले सामने आए हैं। पांच दिनों में 10 लाख मामले बढ़े हैं। इस महामारी की वजह से दुनियाभर में अब तक पांच लाख 70 हजार 924 लोगों की मौत हो चुकी है।

लैटिन अमेरिका में बढ़े मामले

दुनिया भर में वायरस से होने वाली मौत के मामले में लैटिन अमेरिका दूसरे स्थान पर आ गया है। अमेरिका और कनाडा के बाद दुनिया में कोरोना संक्रमण से दूसरा सबसे प्रभावित क्षेत्र बन गया है। इस बीच दक्षिण अफ्रीका ने कोरोना वायरस तूफान को रोकने के लिए एक राष्ट्रव्यापी कर्फ्यू लगा दिया है, जो महाद्वीप के सबसे कठिन प्रभावित देश को बर्बाद करने से रोक रहा था। आधिकारिक आंकड़ों के आधार जुलाई की शुरुआत के बाद से दुनिया भर में लगभग 2.5 मिलियन नए संक्रमणों का पता चला है।

पिछले छह हफ्तों में मामलों की संख्या दोगुनी हो गई है।लैटिन अमेरिका में बढ़ते मामलों के साथ, इस महाद्वीप ने सोमवार को आधिकारिक तौर पर कुल एक लाक 44 हजार 758 मौतों की घोषणा की, जो संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में दर्ज एक लाख 44 हजार 023 मौतों से अधिक है। अब यह यूरोप के बाद दूसरे स्थान पर है, जहां दो लाख दो हजार 505 लोगों की मौत हो चुकी है। लोग मारे गए हैं।

लंदन में चेहरा ढंकना अनिवार्य

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने एक सख्त दृष्टिकोण अपनाते हुए दुकानों में फेस मास्क पहना और मुंह को ढंकना अनिवार्य कर दिया है। कोरोना वायरस के खिलाफ सरकार के अभियान को बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि महामारी में यह एक अनिवार्य कदम था। रविवार को, बोरिस जॉनसन के कैबिनेट सहयोगी माइकल गोवे ने इस योजना से इनकार किया। उन्होंने कहा कि लोगों की अच्छी समझ पर भरोसा करना बेहतर होगा।

कुवैत ने रद्द की परियोजना

कुवैती कैबिनेट ने अल-दबदबा सौर संयंत्र के निर्माण की योजना को महामारी के कारण फिलहाल रद्द कर दिया है। पूरी होने के बाद यह तेल क्षेत्र की विद्युत ऊर्जा की जरूरतों का 15 फीसदी प्रदान करेगी। इस परियोजना को कुवैत नेशनल पेट्रोलियम कंपनी (KNPC) के द्वारा फरवरी 2021 में शुरू किया जाना था। मगर, नौकरशाही प्रक्रियाओं के कारण यह प्रस्ताव बेहद विलंबित था और अब महामारी की वजह से परियोजना को रद्द ही कर दिया गया है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai