गाजा। फिलिस्तीन में रहने वाले मोहम्मद अल-शनाबरी की दुनियाभर में उनके खास हुनर की वजह से तारीफ हो रही है। दरअसल, वह चीजों को ऐसे खड़ा कर देते हैं, जिसके बारे में कोई सपने में भी नहीं सोच सकता है। जैसे ही वह किसी नई वस्तु को देखते हैं, तुरंत ही उसके "संतुलन बिंदु" को खोजने की कोशिश करते हैं और इसे इस तरह से खड़ा करता है कि गुरुत्वाकर्षण के नियम मानो बेमानी हों।

महज 24 साल के मोहम्मद का कहना है कि वह किसी भी वस्तु को इस तरह से संतुलित कर सकता है। यह पूछने पर कि वह ऐसा कैसे करता है, तो मोहम्मद ने कहा कि यह मन और शरीर की ताकत का मिश्रण है। इस कला ने मोहम्मद को एक लोकप्रिय मनोरंजन करने वाले शख्स के रूप में स्थापित कर दिया है। वह लगातार मनोवैज्ञानिक सत्रों जाते हैं, जो संघर्ष-ग्रस्त, गरीबी से ग्रस्त गाजा में आम हैं।

उत्तरी गाजा में अपने घर के आंगन में, अल-शनबारी ने कुर्सी को एक पैर पर खड़ा कर दिया था। एक तिरछे पाइप रिंच पर दो गैस कनस्तरों को सीधा खड़ा कर दिया था वहीं। कोक की बोतल के मुहाने पर टीवी स्क्रीन को उल्टा संतुलित कर दिया था। वह बताते हैं कि आपको बस वस्तु के आधार या आलंब (fulcrum) का पता लगाने की जरूरत है, जिसके बाद आप भी ऐसा कर सकते हैं।

एक फिटनेस और बॉडीबिल्डिंग कोच मोहम्मद का कहना है कि उनकी स्वस्थ जीवनशैली उन्हें वस्तुओं को संतुलित करने के लिए जरूरी ध्यान (फोकस) को धीरे-धीरे विकसित करने में मदद करती है। जब मैं ऐसा करता हूं, तो मुझे कैसा लगता है यह मैं नहीं बता सकता। मगर, कुछ ऐसा लगता है कि एक चुंबक की तरह वह वस्तु मेरी ऊर्जा खींच रही है।

एक साल पहले मोहम्मद को एक कोरियाई बैलेंस आर्टिस्ट सेओक ब्युन का YouTube वीडियो मिला। इसमें सेओक ने जिस तरह से गोल कंकड़ द्वारा समर्थित चट्टानों की परतों को व्यवस्थित किया, उससे मोहित हो गए।

उन्होंने कहा कि वह कुछ दिनों तक इस पर काम करते रहे और अब यह बहुत आसान लगता है। अब कुछ ही मिनट में वह किसी भी चीज को ऐसे संतुलित कर देता है, जिसे देखकर कल्पना भी नहीं की जा सकती है। वह कहता है कि अब मैं वॉशिंग मशीन या फ्रिज जैसी बड़ी वस्तुओं को संतुलित करना चाहता हूं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai